Jaipur city/जेएलएफ को मिली हरी झंड़ी, 23 जनवरी से फिर से सजेगा शब्दों का संसार

जयपुर। गुलाबी शहर जयपुर में एक बार फिर 23 जनवरी से शब्दों का संसार सजेगा। 23 जनवरी से जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल (जेएलएफ) का डिग्गी पैलेस में आयोजन किया जाएगा। शब्दों के इस महाकुंभ में देश दुनिया के लेखक और साहित्यकार विभिन्न विषयों पर संवाद करेंगे।

0
7

Jaipur city/जयपुर। गुलाबी शहर जयपुर में एक बार फिर 23 जनवरी से शब्दों का संसार सजेगा। 23 जनवरी से जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल (जेएलएफ) का डिग्गी पैलेस में आयोजन किया जाएगा। शब्दों के इस महाकुंभ में देश दुनिया के लेखक और साहित्यकार विभिन्न विषयों पर संवाद करेंगे।

मुख्य सचिव डीबी गुप्ता की अध्यक्षता में सचिवालय में हुई अहम बैठक में आयोजन को हरी झंडी दे दी गई। आयोजन में भाग लेने की सहमति देकर विदेशी लेखकों और साहित्यकारों ने अमेरिकी एडवाजरी को खारिज कर दिया। अमेरिका ने स्वाइन फ्लू के कारण विदेशी नागरिकों को राजस्थान का दौरा नहीं करने की एडवाजरी जारी की थी।

मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने गुरूवार को उच्च अधिकारियों के साथ अहम बैठक कर आयोजन की रूपरेखा पर मंथन किया। मुख्य सचिव ने कहा कि इस बार का जेएलएफ समारोह डिग्गी पैलेस में होगा। इस पांच दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय आयोजन में 221 साहित्यिक सत्र आयोजित किए जाएंगे। 389 लेखकों और साहित्यकारों के मुख्य वक्ता के रूप में सत्र होंगे। 21 विदेशी भाषाओं के रचनाकार इसमें शामिल होंगे।

स्थानीय भाषाओं के 241 स्पीकर होंगे। विदेशी भाषाओं के 112 वक्ताओं को मंच मिलेगा। आयोजन में पांच 5 लाख देशी विदेशी लोगों के आने की संभावना है। आयोजन के तहत क्लार्क्स आमेर में चार दिन तक म्यूजिकल कंसर्ट होगा। एक दिन आमेर महल में संगीत का कार्यक्रम होगा।

-यह व्यवस्थाएं रहेंगी

पार्किंग महाराज और महारानी कॉलेज में होगी। टिकट काउंटर्स को भी पार्किंग की जगह शिफ्ट किया जा सकता है। साफ सफाई व्यवस्था का जिम्मा नगर निगम का रहेगा। आयोजन में डॉक्टर्स, एम्बुलेंस और इमरजेंसी सेवाओं का पुख्ता इंतजाम रहेगा। आयोजन के लिए 20 जनवरी से रिहर्सल शुरू हो जाएगी।

-सरकार ने दवाइयों समेत अन्य इंतजाम किए हैं

मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने कहा कि स्वाइन फ्लू के खतरे के मद्देनजर सरकार ने दवाइयों समेत अन्य इंतजाम किए हैं। मुख्य सचिव ने कहा कि अक्सर स्वाइन फ्लू 15 जनवरी तक खासा प्रभावी रहता है। इसके बाद धीरे धीरे उसका असर कम हो जाता है, लेकिन फिर भी राज्य सरकार ने एहतियात इंतजाम किए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here