jaipur city/राजकुमारी दीया कुमारी ने डिसेबल्ड स्टूडेंटस के लिए लांच की आॅडियो बुक्स

जयपुर। वर्ल्ड डिसेबिलिटी डे के अवसर पर जयपुर के सिटी पैलेस में राजकुमारी दीया कुमारी द्वारा आॅडियो बुक्स (सीडी) लॉन्च की गई। ये आॅडियो बुक्स एनसीईआरटी की कक्षा 9 एवं 10 की टेक्सटबुक्स पर आधारित है, जो विशेष रूप से दृष्टिहीन स्टूडेंटस की सुविधा को ध्यान में रखकर तैयार की गई है।

0
17

jaipur city/जयपुर। वर्ल्ड डिसेबिलिटी डे के अवसर पर जयपुर के सिटी पैलेस में राजकुमारी दीया कुमारी द्वारा आॅडियो बुक्स (सीडी) लॉन्च की गई। ये आॅडियो बुक्स एनसीईआरटी की कक्षा 9 एवं 10 की टेक्सटबुक्स पर आधारित है, जो विशेष रूप से दृष्टिहीन स्टूडेंटस की सुविधा को ध्यान में रखकर तैयार की गई है। इसके अंतर्गत इतिहास, भूगोल, राजनीति विज्ञान एवं अर्थशास्त्र विषयों को शामिल किया गया है।

इस अवसर पर, राजकुमारी दीया कुमारी ने कहा कि यह उनके लिए अत्यंत प्रसन्नता और संतोष का दिन है क्योंकि ये आॅडियो सीडीज् अब दृष्टिहीन बच्चों को आसानी से उपलब्ध होंगे। उन्होंने इस प्रोजेक्ट के समन्वयन और सफल बनाने के लिए महाराजा सवाई मान सिंह द्वितीय म्यूजियम (एमएसएमएस द्वितीय म्यूजियम) द्वारा की गई पहल की सराहना की। उन्होंने कहा कि म्यूजियम ट्रस्ट द्वारा ना केवल कक्षा 11 एवं 12 के लिए बल्कि कक्षा 1 से 9 के लिये भी आॅडियो टेप बनाने में सहयोग प्रदान किया जायेगा।

विशेष बच्चों में प्रसार के लिए इन टेप को एनसीईआरटी को भेजा जाएगा। राजकुमारी ने यह भी बताया कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने भी इस अनूठी पहल पर रिपोर्ट मांगी है और इसे सहयोग करने की संभावना है। उन्होंने परियोजना में सहायता करने वाले स्कूलों की सराहना की और दृष्टिहीन बच्चों के साथ वार्ता भी की।

इससे पूर्व, सहायता करने वाले स्कूलों के स्टूडेंटस ने इस प्रोजेक्ट से जुड़ने के अपने अनुभव साझा किये। इन स्पीकरर्स में अमन शर्मा (संस्कार स्कूल), मारिया अब्दुल (द पैलेस स्कूल), आर्यन राज (एनआईएम इंटरनेशनल), वेनेसा (एस.वी पब्लिक स्कूल), कनिष्का (सेंट एडमंड्स, जवाहर नगर), हशिता (मालवीय कॉन्वेंट) और अमन मित्तल (एशियन वर्ल्ड स्कूल) शामिल थे।

इस अवसर पर एमएसएमएस द्वितीय म्यूजियम ट्रस्ट के डायरेक्टर (एजुकेशन), संदीप सेठी ने बताया कि यह एजुकेशनल प्रोग्राम उन विशेष बच्चों की सुविधा के लिए नवंबर 2017 में शुरू किया गया था, जिन्हें टेक्सटबुक्स के माध्यम से सीखने में मुश्किल होती है। इसके चीफ रिसोर्स पर्सनंस दीपक कुमार एवं कार्तिक बाजोरिया है। इस अवसर पर एमएसएमएस द्वितीय म्यूजियम की एग्जीक्यूटिव ट्रस्टी, रमा दत्त और डायरेक्टर, यूनुस खिमाणी भी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here