इस वजह से राजनीति और नेताओं के लिए भाषण से ज्यादा जरूरी हो गया है सोशल मीडिया

आज के समय में सोशल मीडिया एक ऐसा माध्यम बन गया है जिसके बिना अपनी बात कहना मुश्किल सा लगता है। अगर कोई व्यक्ति लोगों के बीच अपनी बात रखना चाहता है तो वो सोशल मीडिया के माध्यम से ही रखता है क्योंकि यहां उसे पहचान वालों के साथ ही अनजान लोगों की भी प्रतिक्रियाएं मिलती हैं।

0
39

आज के समय में सोशल मीडिया एक ऐसा माध्यम बन गया है जिसके बिना अपनी बात कहना मुश्किल सा लगता है। अगर कोई व्यक्ति लोगों के बीच अपनी बात रखना चाहता है तो वो सोशल मीडिया के माध्यम से ही रखता है क्योंकि यहां उसे पहचान वालों के साथ ही अनजान लोगों की भी प्रतिक्रियाएं मिलती हैं। अगर देखा जाए तो सोशल मीडिया का सबसे ज्यादा प्रयोग राजनीतिक क्षेत्र में हो रहा है।

सभी पार्टियां सोशल मीडिया प्लेटफार्म फेसबुक और ट्विटर के माध्यम से प्रचार प्रसार करती हैं। लोग भी अपनी पार्टी के नेता को सपोर्ट कर उनके संदेशों को दूसरों तक पहुंचाते हैं। इसी वजह से जब कोई नेता पार्टी को चुनता है तो उसे सोशल साइट्स पर भी सक्रिय होना पडता है। इसका उदाहरण मायावती जैसी नेता है जिन्होंने ट्विटर ज्वाइन किया।

वहीं प्रियंका गांधी ने कांग्रेस महासचिव का पदभार संभालने के कुछ ही दिनों में ट्विटर पर अपने आप को सक्रिय किया और अकाउंट बनाते ही कुछ ही देर में उनके फॉलोअर्स 75000 पार हो गए। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि कैसे राजनीतिक गलियारों में भाषणों की तरह ही सोशल मीडिया भी अपनी पैंठ बनाता जा रहा है। लोग भाषण सुनें ना सुनें लेकिन नेताओं की सोशल मीडिया पर क्या पोस्ट हो रही हैं इसे जरूर देखते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here