विश्व कैंसर दिवस सप्ताह : मोरीगांव में कैंसर जागरूकता कार्यक्रम

मोरिगांव। श्रीमंत शंकरदेव संघ का 88 वां वार्षिक सम्मेलन आज असम के मोरीगांव में शुरू हुआ। इस चार दिवसीय वार्षिक सम्मेलन में असम कैंसर केयर फाउंडेशन (एसीसीएफ) द्वारा मुंह, स्तन सहित सभी तरह के कैंसर के बारे में जागरूकता के लिए विभिन्न प्रकार के आयेाजन किये गए।

0
38
World Cancer Day Week
World Cancer Day Week

गुवाहाटी / मोरिगांव। श्रीमंत शंकरदेव संघ का 88 वां वार्षिक सम्मेलन आज असम के मोरीगांव में शुरू हुआ। इस चार दिवसीय वार्षिक सम्मेलन में असम कैंसर केयर फाउंडेशन (एसीसीएफ) द्वारा मुंह, स्तन सहित सभी तरह के कैंसर के बारे में जागरूकता के लिए विभिन्न प्रकार के आयेाजन किये गए। इसके साथ ही कैंसर की समय रहते स्क्रीनिंग के बारे में भी आम लोगों को अवेयर किया गया।

श्रीमंत शंकरदेव संघ का 88 वां वार्षिक सम्मेलन में कैंसर केयर फाउंडेशन (एसीसीएफ) की और से सुनिश्चिित किया गया कि 30 साल की उम्र के बाद सामान्य कैंसर की जांच करांए और अन्य लेागों को भी इसके बारे में बताएं। इस दौरान एसीसीएफ की टीम, एनएसएस के युवाअेंा ने सम्मेलन में आने वाले लेागेां को तंबाकू के सेवन के दुष्प्रभाव के बारे में बताया और उनसे जानकारी भी ली।

इस अवसर पर असम कैंसर केयर फाउंडेशन (एसीसीएफ) के सीईओ वारा प्रसाद ने कहा कैंसर ने आज व्यापक रूप ले लिया है और असम में हर साल होने वाले नए कैंसर के मामलों की संख्या में भारी वृद्धि हुई है। इसका सबसे महत्वपूर्ण कारण यंहा पर वयस्क लेागों के बीच तंबाकू की अधिक खपत और स्वास्थ्य और कल्याण केंद्रों में आम कैंसर की जांच के लिए पर्याप्त जागरूकता की कमी है। सम्मेलन स्थल को पूरी तरह से तंबाकू मुक्त क्षेत्र भी बनाया गया ताकि आम जनता में सकारात्मक संदेश जा सके।

उन्होने बताया कि मोरीगांव में 6 से 9 फरवरी तक चलने वाले 88 वें वार्षिक सम्मेलन के माध्यम से एसीसीएफ का उद्देश्य उन लोगों तक पहुंचना है जो सम्मेलन भाग लेंगे और विभिन्न स्थानीय हितधारकों के साथ सहयोग करके उन्हें जागरूक करेंगे। आज मोरीगांव कॉलेज से राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवकों ने पंफलेट वितरण में मदद की। स्वयं सेवकों ने क्षेत्र में तंबाकू नियंत्रण को लागू करने के लिए पुलिस अधिकारी का साथ दिया। इस दौरान 5000 युवाओं की एक सभा में विशेषज्ञों ने तंबाकू नियंत्रण और मुंह के कैंसर के बारे में जानकारी दी।

यहां उल्लेखनीय है कि असम में 48.2 प्रतिशत वयस्क लोग तंबाकू उत्पादों का सेवन करते हैं जिसके कारण हर साल 32000 कैंसर के नए मामलों का पता चलता है। इस सम्मेलन के माध्यम से तंबाकू विरोधी कार्यक्रम 30 लाख स्थानीय लोगों तक पहुंचेगा, जिसमें एनएसएस स्वयंसेवकों व युवा समूह तंबाकू और कैंसर के प्रति जागरूकता को बढ़ावा देने में मदद कर रहें है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here