भू-रूपांतरण के बदले पच्चीस लाख रुपये की घूस मामले में दूदू कलेक्टर और पटवारी के ठिकानों पर एसीबी की छापेमारी

जयपुर। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की टीम ने भू-रूपांतरण के बदले पच्चीस लाख रुपये की घूस मामले में दूदू कलेक्टर हनुमान मल ढाका और पटवारी हंसराज के घर सहित अन्य ठिकानों पर शुक्रवार देर रात छापेमारी की कार्रवाई की गई।

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो डीआईजी डॉ. रवि ने बताया कि पीड़ित ने शिकायत दी कि दूदू में उसकी फर्म के नाम से 204 बीघा जमीन है। इसके कुछ खसरे तालाब-पाल क्षेत्र में होने के कारण कन्वर्जन करवाए जाने की शिकायत जिला कलेक्टर के पास की गई थी। उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं करने के बदले दूदू जिला कलेक्टर हनुमान मल ढाका और पटवारी हंसराज ने पच्चीस लाख रुपए मांगे थे।

पैसे के लिए उन्हें परेशान किया जा रहा था। हालांकि पीड़ित ने पैसा नहीं होने का हवाला दिया तो पन्द्रह लाख रुपए देने के बदले कार्रवाई नहीं करने का आश्वासन दिया गया था। पीड़ित ने एसीबी में शिकायत की। एसीबी ने सत्यापन के दौरान पाया कि कलेक्टर ने 7.5 लाख रुपए डाक बंगले स्थित आवास पर मंगवाए हैं। एसीबी ने शुक्रवार को देर रात बारह बजे उनके आवास और तहसील में छापेमारी की है।

एसीबी अधिकारियों का कहना है कि सत्यापन के दौरान पीड़ित के साथ रिकॉर्डर भी भेजा गया था। इसमें साफ है कि दूदू कलेक्टटर हनुमान मल ढाका ने रिश्वत के करीब साढ़े सात लाख रुपए डाक बंगला स्थित अपने आवास पर मंगवाए थे। पीसी एक्ट के तहत कलेक्टर और पटवारी के खिलाफ भ्रष्टाचार का केस दर्ज कर छापेमारी की गई है।

एसीबी ने कलेक्टर के डाक बंगला स्थित आवास और तहसील कार्यालय दूदू में भी तलाशी ली। जानकारी के अनुसार पन्द्रह लाख रुपए में रिश्वत का सौदा होने के बाद कलेक्टर और पटवारी ने पीड़ित से पन्द्रह अप्रैल की शाम को पैसे डाक बंगले पर मंगवाए थे। पीड़ित के पास पैसे की व्यवस्था नहीं हुई। इस पर उसने चार-पांच दिन का समय मांग लिया था। फिर एसीबी में शिकायत की।

पुख्ता सबूत होने के कारण एसीबी ने शुक्रवार को केस दर्ज किया। गौरतलब है कि हनुमान मल ढाका राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी थे। पिछले साल ही आईएएस सेवा में पदोन्नत हुए हैं। हनुमान मल ढाका नागौर, अजमेर, भरतपुर और झुंझुनूं में एसडीएम रह चुके हैं। पन्द्रह फरवरी से दूदू जिला कलेक्टर लगे हुए हैं। यहां से पहले खैरथल तिजारा लगाया था, लेकिन तुरंत ही वापस हटा दिया गया था।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles