अगर किसी की भी पेपर लीक में भागीदारी हुई तो वह एसओजी की जेल में होगा: एडीजी एसओजी

जयपुर। मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने गुरुवार को ओटीएस चौराहे स्थित मुख्यमंत्री आवास (सीएमआर) में पेपर लीक को लेकर गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) टीम की बैठक ली गई। इस अहम बैठक में एसआईटी की ओर से अब तक की कार्रवाई,जांच और गिरफ्तारियों को लेकर मुख्यमंत्री को फीडबैक दिया गया है। साथ ही एसआईटी की ओर से अब तक हुई पूरी कार्रवाई का ब्योरा मुख्यमंत्री को सौंपा गया। एसओजी की तरफ से मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा के सामने प्रस्ताव रखा गया।

प्रस्ताव के अनुसार, एसआईटी विंग में स्टाफ की कमी है। इसलिए उनकी संख्या बढ़ाने (नफरी) और जिलों में एसआईटी विंग की स्थापना करने की जरूरत बताई गई है। माना जा रहा है कि जिलों में एसआईटी विंग की स्थापना होने के बाद तमाम मामलों की छानबीन में मदद मिलेगी। इस दौरान बैठक में पुलिस महानिदेशक राजस्थान यू आर साहू, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक एसओजी वीके सिंह सहित तमाम आला अधिकारी मौजूद रहे।

गौरतलब है कि प्रदेश में सरकार बनने के साथ ही मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने पेपर लीक की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया था।
अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) वीके सिंह ने कहा कि अगर किसी की भी पेपर लीक में भागीदारी सामने आई तो वह सीधा एसओजी की जेल में होगा।

उन्होंने कहा कि एसओजी की कार्रवाई से जो लोग अभी तक निराश थे। उनके मन में आशा जगी है। एसआई भर्ती के खुलासे और गिरफ्तारियों के बाद लोगों में अच्छा मैसेज गया है। उन्होंने कहा कि हमारा पक्ष कोर्ट में भी मजबूत रहेगा। आने वाले समय में लोगों को महसूस होगा कि पुलिस ने कितनी प्रोफेशनल तरीके से मेहनत के साथ सभी चीजों को एग्जीक्यूट किया है।

सिंह ने कहा कि पेपरलीक से जुड़ी गैंग वैसे तो अलग-अलग है। लेकिन इनमें भी पैसे को लेकर जानकारी का एक्सचेंज होता है। इस गैंग के कुछ लोग हरियाणा में इस तरह से काम करने वालों से जुड़े हैं। लेकिन उनका इसमें कितना रोल है। यह जांच का विषय है। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक एसओजी ने कहा कि एसओजी को जो भी संसाधन चाहिए। वह मुहैया कराए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने हुई बैठक में ऐसा भरोसा दिया है। मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने एक-एक सदस्य से बात की। अपनी भावनाओं से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने समस्याएं भी सुनीं। पेपर लीक को लेकर जो भी लंबित मामले हैं, उनका खुलासा करने का लगातार प्रयास किया जा रहा है।

एसओजी के लगातार कार्रवाई को लेकर 2021 सब इंस्पेक्टर भर्ती एग्जाम में हुए पेपर लीक के आरोपियों पर शिकंजा कसा जा रहा है। इसको लेकर मैसेज अच्छा गया है। सरकार को ऐसा फीडबैक मिला है। मुख्यमंत्री ने एसओजी टीम को बधाई दी। पूरी टीम से सीएम ने मिलने की इच्छा जताई थी। इसलिए गुरुवार को पूरी टीम सीएमआर गई थी। मुख्यमंत्री ने पूरी टीम का हौसला बढ़ाया। इसके अलावा पेपर लीक मामले में कई सरकारी अधिकारी और कर्मचारी एसओजी की रडार पर है। ऐसे में उनसे संबंधित सभी जानकारी भी बैठक में मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा को सौंपी गई है। यह भी बताया जा रहा है कि एसओजी की ओर से चिह्नित कई आरोपित अधिकारी-कर्मचारी फरार हैं। उनकी सैलरी और भत्ते रोकने के लिए भी कहा गया। ताकि फरार आरोपियों पर शिकंजा कसा जा सके।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles