लाख का बना जयपुर का मशहूर गुलाल गोटा: आज भी राजसी परिवार करते है इस्तेमाल

जयपुर। राजस्थान में फागुन की महक आने के साथ ही होली का खुमार भी छाने लगा है। ना सिर्फ लोग होली की तैयारियों में जुट गए है। साथ में बाजार में भी होली की रौनक नजर आने लगी है। राजपरिवार की शाही होली में खास जगह रखता था खास गुलाल गोटा। पांच ग्राम लाख से बनने वाला यह गोटा गुलाल से भरा होता था और यहां के राजा भी इससे होली खेलते थे। यह भी कहा जाता है कि राजा कभी हाथी पर सवार होकर जब प्रजा के बीच होली खेलने निकलते थे तो इन्हीं गुलाल गोटों से वे सुंदरियों पर रंग बरसाते थे।

चार सौ सालों से गुलाल गोटा बनाने का काम जयपुर का एक मुस्लिम परिवार कर रह है। इनकी कई पीढ़ियां इस काम को करते चले आ रही है। अब राजा-महाराज तो नहीं रहे, लेकिन राजस्थान के कई राजसी परिवार आज भी गुलाल गोटे का इस्तेमाल करते हैं। इन्हीं लोगों की वजह से जयपुर के साथ देश के अन्य हिस्सों में भी ये गुलाल गोटे रंगोत्सव के शाही अंदाज को जिंदा रखे हुए हैं। होली खेलने का यह अंदाज महज पांच ग्राम लाख और 50 ग्राम गुलाल के साथ उत्साह को दोगुना कर देता है। जयपुर के होली सेलिब्रेशन में ये गुलाल गोटे देसी-विदेशी सैलानियों के बीच हमेशा से आकर्षण का केंद्र रहे है।

जयपुर के कई परिवार अपनी खास कारीगरी से गुलाल गोटे तैयार करते हैं। ये गुलाल गोटे पूरी तरह से लाख से बने होते हैं, एक गोटे में महज 5 ग्राम लाख का इस्तेमाल होती है। लाख को पिघला कर उसकी छोटी-छोटी गोलियां बनाई जाती हैं फिर गोलियों में हवा भरी(फूंकनी के जरिए) जाती है। गुब्बारे की तरह फुलाते हुए इसे रंग भरने के लिए तैयार किया जाता है। जब गोटा तैयार हो जाता है तो इसमें 20 से 30 ग्राम तक गुलाल भरी जाती है।

यह गुलाल गोटे रंग-बिरंगे रगों में बेहद आकर्षक लगते हैं। इनके साथ होली खेलने वाले न सिर्फ रंगों से बल्कि खुशबू से भी नहा जाता है। आमेर के राजा ने इन्हें अपनी प्रजा के साथ होली खेलने के लिए प्रोत्साहन दिया और मनिहारों को जयपुर में बसाया था। वर्तमान में पिंक सिटी के मनिहारों के रास्ते में ही ये गुलाल-गोटे बनाए जाते हैं। आज भी कुछ परिवार अपने पुश्तैनी गुलाल गोटे बनाने के काम को जारी रखे हुए हैं।

मुस्लिम परिवार बनाता है गुलाल गोटा

जयपुर में गुलाल गोटा बनाने और उनका कारोबार करने वाले अधिकांश लोग मुस्लिम परिवार से आते हैं। इन कारीगरों का दावा है कि लगभग सैकड़ों साल पहले उनके पूर्वजों को जयपुर में बसाया था। उनके पूर्वजों के बनाए गुलाल गोटे से ही राजपरिवार होली खेला करता था। आज भी जयपुर में गुलाल गोटा बनाना और बेचने का काम अधिकांश मुस्लिम परिवार के सदस्य ही करते हैं।

राजा और प्रजा के बीच होली खेलने का है प्रतीक

गुलाल गोटा मूल रूप से राजा और प्रजा के बीच होली खेलने का प्रतिक है। दरअसल, जब होली के दिन राजा-महाराजा अपनी प्रजा से संवाद करने, उनसे मिलने किलों से बाहर आते थे, तब उनके लिए यह संभव नहीं था कि बाहर राजा का इंतजार कर रही हजारों की भीड़ में हर एक के साथ होली खेली जाए। इसलिए उस समय प्रजा गुलाल गोटा बनाकर उसे राजा पर मारा करती थी। इससे प्रजा अपने राजा के साथ होली भी खेल ली। समय के साथ धीरे-धीरे बाद में यह जयपुर की पहचान बन गया। बताया जाता है कि सवाई जयसिंह, सवाई मानसिंह आदि गुलाल गोटे से ही राजपरिवार में और जनता के साथ होली खेला करते थे।

छह गोटे की पैकिंग 150 रुपए

वर्षों से गुलाल गोटा तैयार कर रहे मुस्लिम परिवार के लोग बताते हैं कि होली खेलने के सबसे शानदार गुलाल गोटा हैं जो बिल्कुल हल्का होता है। जिसे होली खेलते समय किसी पर फेंक कर मारा जाता है तब यह फूटता है और इसमें से कलर निकलता है। जयपुर में होली से एक महीने से पहले ही गुलाल गोटा बनना तैयार हो जाता है और सीजन में सभी गुलाल गोटा तैयार करने वाले कारीगर ठीक ठाक पैसा कमा लेते हैं।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles