फाल्गुनी एकादशी: खाटू नरेश का दरबार सजाकर किया श्याम प्रभु का गुणगान

जयपुर। फाल्गुनी एकादशी पर सभी श्याम मंदिरों में खाटू नरेश का दरबार सजाकर अखंड ज्योति प्रज्जवलित कर सत्संग हुआ। रामगंज बाजार के कांवटियो का खुर्रा स्थित प्राचीन श्याम मंदिर में दोपहर अखंड ज्योत प्रज्जवलित कर महिलाओं ने फाल्गुनी भजनों की प्रस्तुतियां दीं। गलता गेट स्थित गीता गायत्री मंदिर में श्याम प्रभु का गुलाल से सने रंग-बिरंगे गजरे से मनमोहक श्रृंगार किया। पं. राजकुमार चतुर्वेदी ने महाआरती की।

बड़ी संख्या में महिलाओं ने फाग के गीतों से मौरवी नंदन का गुणगान किया। शास्त्रीनगर, जगतपुरा, वीकेआई रोड नंबर पांच, विजयबाड़ी पथ नंबर सात, मुरलीपुरा के विकास नगर स्थित श्याम प्रभु के मंदिरों में दिन भर धार्मिक आयोजनों की धूम रही। विभिन्न श्याम सेवी संस्थाओं की ओर से एकादशी पर रात भर भजन संध्याओं का आयोजन किया गया।

निशान यात्रा में उमड़े श्यामप्रेमी

फाल्गुन  एकादशी पर सीकर रोड स्थित ढेहर का बालाजी मंदिर से विजयबाड़ी पथ नंबर सात स्थित श्याम मंदिर तक चतुर्थ निशान यात्रा निकाली गई। निशान यात्रा में हरि ओम जन सेवा समिति के अध्यक्ष पकंज गोयल, पार्षद संजय जांगिड़ सहित सैंकड़ों श्रद्धालु हाथों में रंग-बिरंगे निशान लेकर नाचते गाते चल रहे थे। डीजे पर बजते भजनों की धुन पर श्याम प्रेमियों ने गुलाल उड़ाते हुए नृत्य किया। जगह-जगह पुष्प वर्षा कर निशान यात्रा का स्वागत किया गया। विजयबाड़ी स्थित श्याम मंदिर में निशान यात्रा पहुंची तो आसपास का क्षेत्र जयश्री श्याम के जयकारों से गूंज उठा। रात्रि को श्याम मंदिर में भजन संध्या हुई। स्थानीय और बाहर के कलाकारों ने देर रात तक श्याम प्रभु का भजनों से गुणगान किया।

महिलाओं ने थापी ढाल:

एकादशी पर महिलाओं ने घरों में गाय  के गोबर से बडक़ुल्ले बनाए और ढाल थापी। गोबर से चंदमा, सूर्य, तारे, नारिलय, पान, चकला, बेलन, तलवार, सुपारी सहित अन्य आकृतियां बनाई। इन सबका होली के दिन पूजन किया जाएगा।

रंगभरी एकादशी पर मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु, श्याम प्रभु को भजनों से रिझाया

सरस निकुंज में मंदिर परिसर में भी बड़ी धूमधाम से फागोत्सव मनाया गया। जिसमें सरकार बिहारी जू सरकार की रंग बिरंगे सुंगधित पुष्पाो की झांकी सजाई  गई। आचार्य पीठ श्री सरस ठाकुर श्री राधा सरस विहारी जू सरकार की रंग-बिरंगे सुंगधित पुष्पों की झांकी सजाई गई।  शुक संप्रदाय पीठाधीश्वर अलबेली माधुरी शरण महाराज के सान्निध्य में होरी के रसिया की चंग धमाल के साथ पदावलियों का गायन किया गया। श्री सरस परिकर के प्रवक्ता प्रवीण बड़े भैया ने पुष्प वर्षा की। पुरानी बस्ती स्थित राधा गोपीनाथ मंदिर में महंत सिद्धार्थ गोस्वामी के सान्न्ध्यि में ठाकुरजी का मनोरम श्रृंगार किया गया। चौड़ा रास्ता स्थित राधा दामोदर जी मंदिर में महंत मलय गोस्वामी के सान्निध्य में ठाकुरजी की मनोहारी झांकी सजाई गई। रामगंज बाजार के लाड़लीजी, गोविंद देवजी  मंदिर के पीछे स्थित मदन मोहन जी सहित अन्य वैष्णव मंदिरों में एकादशी पर विभिन्न आयोजन हुए।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles