स्वयंसेवक संघ के सेवा विभाग ने प्रदेशभर में निकाली नारायण दर्शन यात्रा

जयपुर। सनातन के मूल सिद्धांत एकम् ब्रह्म को स्थापित करने, सामाजिक समरसता तथा सद्भाव बढ़ाने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सेवा विभाग की ओर से प्रदेश भर में निकाली जा रही नारायण दर्शन यात्रा के अंतर्गत शनिवार को मुरलीपुरा, झोटवाड़ा, करधनी सहित अन्य इलाकों में नारायण नाम कीर्तन करते हुए यात्रा निकाली गई। समाज में श्रद्धा और सम्मान प्राप्त संतों-महंतों, साधकों के सान्निध्य में निकाली यात्रा में बड़ी संख्या में स्थानीय लोग भी शामिल हुए। वंचित समाज की बस्तियों में जाकर संतों-महंतों ने आशीर्वचन दिए। बस्ती वासियों ने माल्यार्पण कर स्वागत किया। सभी ने एक-दूसरे के हाथों से प्रसाद ग्रहण किया।

शनिवार को सुबह मुरलीपुरा की देवधारा कॉलोनी के हरनाथ मंदिर से रामेश्वर धाम कॉलोनी स्थित श्री गौड़ विप्र समाज भवन तक नारायण दर्शन यात्रा निकाली गई। हनुमत और गायत्री साधक मनु महाराज के सान्निध्य में बड़ी संख्या में स्थानीय लोग नारायण कीर्तन करते हुए चल रहे थे। श्री गौड़ विप्र समाज भवन में गायत्री शक्तिपीठ ब्रह्मपुरी के प्रतिनिधि महेन्द्र कुमार ने कहा कि हमारी संस्कृति हमेशा से ही समरसता की रही है। हर व्यक्ति को सम्मान मिला है। ऋषि-मुनियों ने हर नर में नारायण का दर्शन करने पर जोर दिया। जगद्गुरु रामानंदाचार्य महाराज ने जाति पाति के बजाय प्रेम को महत्व दिया।

संत नामदेव ने तो श्वान में भी नारायण के दर्शन किए। इस मौके पर प्रकाश गुप्ता, शंकर लाल जोशी, सीताराम शर्मा, चंद्र प्रकाश भिंडा, कांतिलाल चंदेल, गिरधारी लाल शर्मा, छगन सिंह, जयप्रकाश शर्मा सहित अन्य लोग उपस्थित रहे। नारायण दर्शन यात्रा के प्रांत संयोजक राजेंद्र प्रसाद धर्मगुरु ने बताया कि हम तथा हमारा कार्य किसी के खिलाफ नहीं है। जयपुर प्रांत की 1080 बस्तियों में नारायण दर्शन का कार्यक्रम होना है। इसके तहत संत-महंत बस्तियों में जाकर आशीर्वचन करेंगे। उनके बनाया हुआ प्रसाद ग्रहण करेंगे। शनिवार को तेजाजी नगर, करधनी नगर की रैगर बस्ती, निवारू रोड की बंजारा बस्ती, दादी का फाटक मुरलीपुरा की गाडिय़ा लुहार बस्ती में भी नारायण दर्शन यात्रा निकाली गई।

आज 27 स्थानों पर होंगे आयोजन:

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सेवा विभाग के महानगर प्रमुख राजेंद्र त्रिवेदी ने बताया कि अभी तक जयपुर महानगर की लगभग 65 बस्तियों में यह कार्यक्रम हो चुके है। रविवार को 27 स्थानों पर कार्यक्रम होंगे। इसमें एक कुआ, एक मंदिर और एक श्मशान की सनातन धर्म की परम्परा का संदेश दिया जाएगा। निवारू की रैगर बस्ती में राम कुटिया के संत अच्युत कृष्ण दास महाराज का सान्निध्य और वरिष्ठ प्रचारक सूर्यप्रकाश (जयपुर प्रांत सेवा प्रमुख) का मार्ग दर्शन मिलेगा।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सेवा विभाग के महानगर प्रमुख राजेंद्र त्रिवेदी ने बताया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, सेवा विभाग, जयपुर महानगर की ओर से नारायण दर्शन यात्रा का कार्यक्रम महानगर की 258 बस्तियों में किया जा रहा है। सभी हिंदू भारत माता की संतान है। इसलिए सहोदर भाई हैं। कोई भी हिंदू पतित या नीच नहीं हो सकता। हिंदुओं की रक्षा मेरी दीक्षा है, समानता यही मेरा मंत्र है। अभी तक लगभग 60 बस्तियों में नारायण दर्शन यात्रा का कार्यक्रम संपन्न हो चुका है। साधु, संत, महात्मा एवं कथा वाचकों के कार्यक्रम के माध्यम से सामाजिक समरसता, संस्कार, संस्कृति, धर्म के प्रति आस्था और सामाजिक सद्भाव को बढ़ाने के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles