राष्‍ट्रीय स्‍वत्‍व के लिए संघर्ष पुस्‍तक विमोचन

जयपुर। राजस्‍थान विधानसभा अध्‍यक्ष वासुदेव देवनानी ने कहा है कि स्‍व का जनजागरण आवश्‍यक है। उन्‍होंने कहा कि विकसित भारत की कल्‍पना को साकार करने के लिए देश प्रथम की भावना जागृत करनी होगी। भारतीय संस्‍कृति को घर-घर में लाना होगा। उन्‍होंने लोगों का आवहान किया कि सुप्रभात के उच्‍चारण से स्‍व की भावना का आरम्‍भ करे। इसके साथ ही धीरे-धीरे हर क्षेत्र में राष्‍ट्रीयता की भावना को जगाने के लिए सभी मिल-जुलकर प्रयास करे। परिवारों को संयुक्‍त रखकर हम राष्‍ट्र की प्रगति में योगदान दे सकते है।

विधानसभा अध्‍यक्ष देवनानी शुक्रवार को यहां स्‍वास्‍थ्‍य कल्‍याण कॉलेज और पैरामेडिकल टेक्‍नोलॉजी के सभागार में प्रज्ञा प्रवाह जयपुर प्रांत द्वारा आयोजित सार्थक संवाद के तहत देश राग के तहत जे. नंदकुमार की पुस्‍तक राष्‍ट्रीय स्‍वत्‍व के लिए संघर्ष के विमोचन समारोह को सम्‍बोधित कर रहे थे। उन्‍होंने दीप प्रज्‍वलित कर समारोह का शुभारंभ किया।

देवनानी ने कहा कि स्‍व को खत्‍म करने से व्‍यक्ति गुलामी की दिशा में बढने लगता है। भारत की संस्‍कृति महान है। महापुरूष, वीर और वीरांगनाओं के जीवनी को उन्‍होंने पाठयक्रमों में जुडवाया।अकबर महान को हटवाकर महाराणा प्रताप महान के पाठ को पाठयक्रम में जुडवाया। इनसे भावी पीढी में भारतीय इतिहास के अध्‍ययन से गौरव की अनुभूति पैदा हुई।

हम सभी को स्‍व के जागरण के लिए स्‍व का दीप निरन्‍तर प्रज्ज्‍वलित करने में अपनी सक्रिय भागीदारी निभानी होगी, ताकि राष्‍ट्र निरन्‍तर प्रगति की और अग्रणी हो सके। समारोह को पुस्‍तक के लेखक श्री जे. नंदकुमार, स्‍वास्‍थ्‍य कल्‍याण समूह के अध्‍यक्ष डॉ. एस.एस. अग्रवाल, अधिवक्‍ता श्री देवेश कुमार बंसल और डॉ. राजेश मेठी ने भी सम्‍बोधित किया।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles