उड़ान पर 2023 में भारत में 2.25 अरब उत्पादों की शिपिंग की गई

जयपुर। भारत के सबसे बड़े ई-बिजनेस-टू-बिजनेस (ईबी2बी) प्लेटफॉर्म उड़ान ने घोषणा की कि उन्होंने कैलेंडर वर्ष 2023 में 2.3 करोड़ से अधिक ऑर्डर्स की आपूर्ति करते हुए 2.25 अरब से अधिक उत्पादों की शिपिंग की है। इन ऑर्डर्स को भारत के सभी राज्यों में शिप किया गया। आवश्यक वस्तुीओं की कैटेगरी (फ्रेश, एफएमसीजी, स्टेपल्स, फार्मा) के अंतर्गत, प्लेटफॉर्म पर 2 करोड़ ऑर्डर्स पूरे किए और लगभग 10 लाख टन से अधिक उत्पादों को भेजा गया।

उड़ान पर विवेकाधीन (इलेक्ट्रॉनिक्स, जनरल मर्चेंडाइज और लाइफस्टाइल) कैटेगरी के अंतर्गत 30 लाख ऑर्डर्स की आपूर्ति करते हुए 7 करोड़ से ज्याेदा उत्पादों को भेजा गया। इस अवधि के दौरान, प्लेटफॉर्म पर 900 विक्रेताओं में से हर एक ने 1 करोड़ रुपये की बिक्री हासिल की, जबकि 600 विक्रेताओं ने प्लेटफॉर्म पर 2 करोड़ रुपये का कारोबार किया।

गुरुग्राम, मुंबई, पुणे, लखनऊ, जयपुर, कोलकाता, अहमदाबाद, हैदराबाद, दिल्लीॉ और बेंगलुरु के खुदरा विक्रेताओं को आवश्य्क एवं विवेकाधीन उत्पा्दों की सबसे अधिक मांग मिली। देश में किराना कारोबार को बढ़ाने के लिए तकनीकी और इंटरनेट की शक्ति का लाभ उठाते हुए, उड़ान छोटे रिटेल विक्रेताओं और किरानाओं के बीच भुगतान के डिजिटलीकरण को भी प्रोत्साहित कर रहा है। कैलेंडर वर्ष 2023 के दौरान, उड़ान प्लेटफॉर्म पर 22% रिटेल विक्रेताओं ने भुगतान के लिए डिजिटल माध्यमों को अपनाया।

आवश्यक वस्तुरओं (एसेंशियल्सट) की कैटेगरी (फ्रेश, एफएमसीजी, अनाज, दवा):कैलेंडर वर्ष 2023 में, उड़ान ने 90% से अधिक की रिपीट खरीद दर के साथ एसेंशियल्स2 कैटेगरी में कारोबार में भारी उछाल देखा, जो उसके भागीदारों के साथ मजबूत संबंधों को उजागर करता है। प्लेटफॉर्म के माध्यम से ~50.4 करोड़ बिस्किट पैकेट्स, 43.7 करोड़ पर्सनल केयर (इकाइकयाँ), ~25.1 करोड़ पेय पदार्थ (इकाइयाँ), और फिर लगभग 8.7 करोड नूडल पैकेट्स और ~1.5 करोड़ पेय पदार्थ इकाइयाँ भेजी गईं। इसके अलावा, कैलेंडर वर्ष 2023 में ~7.2 करोड़ नमकीन आइटम और और ~5 करोड़ कॉफी पैकेट्स बेचे गए। इन उत्पादों की सर्वाधिक मांग उत्तर प्रदेश, दिल्ली, कर्नाटक, महाराष्ट्र और तेलंगाना से आई।

कैलेंडर वर्ष 2023 में उड़ान के माध्यम से 9.6 लाख टन से अधिक खाद्य उत्पाद (स्टेपल्स और एफएमसीजी) भेजे गए। 7.9 लाख टन स्टेपल्स, जिसमें 4.3 लाख टन चीनी और तेल और 3.6 लाख टन से अधिक चावल, दालें और आटा शामिल थे, जिसे पूरे देश में टियर 1, 2 और 3 शहरों में भेजा गया। इन उत्पादों की सबसे अधिक मांग कर्नाटक से आई, इसके बाद उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, दिल्ली और तेलंगाना का स्थान रहा। इसके अलावा, उड़ान के द्वारा 1.7 लाख टन से अधिक एफएमसीजी उत्पाद भेजे गए और इन उत्पादों के लिए बड़ी मात्रा में ऑर्डर्स उत्तर प्रदेश, दिल्ली, कर्नाटक, महाराष्ट्र और तेलंगाना से आए।

विवेकाधीन (डिस्क्रे शनरी) कैटेगरी (इलेक्ट्रॉनिक्स, सामान्य उत्पाद, जीवन शैली):
कैलेंडर वर्ष 2023 में, उड़ान की इलेक्ट्रॉनिक्स कैटेगरी ने 13 लाख ऑर्डर्स पूरे किए और 3.1 करोड़ से अधिक उत्पादों की ढुलाई करवाई। इसमें 2.1 लाख से ज्याादा एक्सेसरीज़ और 75 लाख कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स और 25 लाख मोबाइल हैंडसेट्स शामिल हैं। इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादों के लिए बड़ी मात्रा में ऑर्डर्स मुख्य रूप से कर्नाटक, असम और बिहार से आए।

जनरल मर्चेंडाइज एंड हार्डवेयर कैटेगरी में रिटेल विक्रेताओं ने 75 लाख से अधिक उत्पादों के लिए ऑर्डर दिए। मांग में 47 लाख प्लाेस्टिक उत्पारद, रसोई के उपकरण और कुकवेयर आइटम्सा, 17 लाख धातु के बर्तन, और 10 लाख साइकिल, लगेज, खिलौने और बेबी केयर उत्पाद शामिल थे। उड़ान को कर्नाटक, असम और बिहार से सामान्य व्यापारिक वस्तुओं के लिए बड़ी मात्रा में ऑर्डर प्राप्त हुए।

उड़ान की लाइफस्टाइल कैटेगरी, जिसमें कपड़े, एक्सेसरीज और फुटवियर शामिल हैं, ने कैलेंडर वर्ष 2023 में 10 लाख ऑर्डर्स की पूर्ति के लिए 1.9 करोड़ से अधिक उत्पाद भेजने में मदद की। लगभग 30 लाख पुरुषों के टी-शर्ट्स और शर्ट्स, 60 लाख जोड़ी जूते और 10 लाख महिलाओं के परिधान पूरे भारत में भेजे गए। लाइफस्टाइल उत्पादों की सबसे अधिक मांग बिहार से और उसके बाद उत्तर प्रदेश, असम, कर्नाटक, ओडिशा और महाराष्ट्र से आई।

एक-एक करोड़ रुपये का कारोबार करने वाले विक्रेता:
900 विक्रेताओं ने कैलेंडर वर्ष 2023 के दौरान उड़ान प्लेटफॉर्म की मदद से 1 करोड़ रुपये के उत्पाद बेचने की उपलब्धि हासिल की। इनमें से 700 विक्रेता आवश्यमक वस्तु ओं की कैटेगरी और 200 विक्रेता विवेकाधीन वस्तुेओं की कैटेगरी वाले थे। इसके अलावा, उस अवधि में लगभग 600 विक्रेताओं ने 2 करोड़ रूपये से ज्याादा की बिक्री हासिल की। इनमें से ~500 विक्रेता आवश्य क वस्तुनओं और 100 विक्रेता विवेकाधीन वस्तु2ओं की कैटेगरी वाले थे।

उड़ान के को-फाउंडर एवं सीईओ वैभव गुप्ता ने कहा, ‘‘उड़ान भारत के छोटे व्यलवसायों को सशक्ते करने के अपने मूल दर्शन को लेकर प्रतिबद्ध है। बदले में यह व्यीवसाय टेक्नो‍लॉजी का फायदा उठाकर जन-साधारण के बाजार को सेवा देते हैं। ऑर्डर्स की बड़ी संख्याध और दोबारा खरीदारी करने की बेहद उच्चन दर दिखाती है कि उड़ान को उसके रिटेल भागीदार कितना पसंद करते हैं। यह ग्राहक सेवा में उत्कृाष्टकता पर हमारे केन्द्रित होने से संभव हुआ है। इसमें हम देश के कोने-कोने में फैले अपने मजबूत और सप्ला ई चेन सिस्टकम का लाभ उठाते हैं। अपने शानदार प्रदर्शन से प्रोत्सा हित होकर हम लगातार बाजार में अपनी स्थिति को मजबूत करना जारी रखेंगे। हम भारतीय ईबी2बी में मौजूद 150 बिलियन अमेरिकी डॉलर के बड़े अवसर का फायदा भी लेंगे।’’

कैलेंडर वर्ष 2023 में उड़ान ने 340 मिलियन अमेरिकी डॉलर की सीरीज ई फाइनेंसिंग जुटाई थी, ताकि ग्राहक अनुभव, बाजार में पहुँच और विक्रेताओं के साथ रणनीतिक भागीदारियों को और भी मजबूत किया जा सके। इन पैसों का इस्ते माल सप्ला ई चेन एवं ऋण की क्षमताओं को लंबे समय के लिये मजबूत करने में भी होगा। इसका उद्देश्यस देश के लाखों दुकानदारों और किराना व्याईपारियों की आवश्य कताओं को पूरा करने के लिये एक स्थाियी व्यरवसाय का निर्माण करना है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles