गोटेवाला की स्मृति में विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन

जयपुर। स्वर्गीय श्रीराम गोटेवाला (पूर्व मंत्री राजस्थान सरकार) की 95वीं वर्षगांठ के उपलक्ष में श्री खण्डेलवाल वैश्य समाज शिक्षण संस्थान सुधार समिति के तत्वावधान में रविवारको श्री खण्डेलवाल वैश्य सीनियर सैकण्डरी स्कूल, हीदा की मोरी, रामगंज, जयपुर में उनकी स्मृति में विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन किया जा रहा है।

पूर्व राज्य मंत्री गोटेवाला का जन्म 1929 में खण्डेला (सीकर) में हुआ। नवलगढ़ (झुंझुनूं) स्थित पोद्दार हाई स्कूल से प्राथमिक शिक्षा ग्रहण की। उन्होंने भारत छोड़ों आन्दोलन में हिस्सा लिया। खण्डेला से वे रोजगार की तलाश में जयपुर आए और यहां गोटे का व्यवसाय शुरू किया।इसके बाद उनका पदार्पण सक्रिय राजनीति में हुआ। 1952 में वे जिला कांग्रेस के सक्रिय सदस्य बने। शहर कांग्रेस अध्यक्ष व महामंत्री पद कई साल तक संभाला। 1968 में नगरपालिका जयपुर का चुनाव जीता।

गोटेवाला एक लोकप्रिय जन नेता थे। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के अजेय माने जाने वाले श्री गिरधारी लाल भार्गव व श्री भंवर लाल शर्मा जैसे महान लोगों को चुनावों में पराजित कर जयपुर शहर में एक लोकप्रिय जन नेता की छाप छोड़ी।अपने विधायक काल के दौरान उन्होंने कच्ची बस्ती उन्मूलन कार्यक्रम हाथ में लिया और नाहरी का नाका व जयपुर की अन्य कच्ची बस्तियों में वहां जमें गरीब वर्ग के लोगों को मात्र पांच रूपये प्रति वर्गगज के हिसाब से प्लॉट आवंटित कर उन्हें पक्के आवास बनाने का सुअवसर प्रदान किया। श्री गोटेवाला पशुपालन, दुग्ध, सहकारिता एवं खादी जैसे महत्वपूर्ण विभागों के भी राज्यमंत्री रहे।

स्वायत्त शासन मंत्री पद पर रहने के दौरान जयपुर विकास प्राधिकरण की स्थापान में भी उनकी सक्रिय भूमिका रहीं। विद्याधर नगर व मुरलीपुरा आवास योजनाऐंउनके कार्यकाल में ही बनी। ये दोनों योजनाऐं आज जयपुर की शानदार योजनाओं में है। राजस्थान आवासन मण्डल के अध्यक्ष के तौर पर भी उन्होंने सेवाऐं दी। इस दौरान हजारों मकान लोगों को आवंटित किए गए।

आमजन को चिकित्सा सेवाऐं उपलब्ध करवाने के लिए कावंटिया हॉस्पिटल का निर्माण व शिक्षा के लिए कई राजकीय व गैर राजकीय शैक्षणिक संस्थाओं को चालू करवाया। उच्च शिक्षा के लिए केवल मात्र एक रूपया टोकन मनी में खण्डेलवाल समाज को 30,000 वर्गगज भूमि आवंटित करवाई जिसमें आज खण्डेलवाल कॉलेज के नाम से छात्र/छात्राओं को शिक्षा सुविधा प्राप्त हो रही है।

गोटेवाला ने स्वास्थ्य सेवाओं पर अधिक ध्यान देने का प्रयत्न किया इस हेतु उन्होंने जयपुर रूरल हैल्थ एण्ड डवलपमेंट ट्रस्ट की स्थापना 1983 में की। ग्राम चम्पापुरा, कालवाड़ रोड़, जयपुर में इस ट्रस्ट का बड़ा भवन है, जिसमें अस्पताल एवं अन्य समाज सेवा गतिविधियां संचालित की जा रही है। ट्रस्ट के माध्यम से 200 गांवों में मेडिकल सेंवाऐं भा उपलब्ध करावाई गई। मेडिकल कॉलेज खोलने के उनके सपनें को साकार करने का प्रयास उनके द्वारा स्थापित ट्रस्ट के माध्यम से पुरा किया जा रहा है।

गोटेवाला इण्डो चाईना सोसायटी, फ्रेण्डस ऑफ सोवियत यूनियन, अखिल भारतवर्षीय खण्डेलवाल वैश्य महासभा के भी प्रधान रहे। राजस्थान नहर के दोनों ओर वृक्षारोपण का कार्य हो या फिर दुग्ध विकास के लिए प्रदेश में श्वेत क्रांति का नारा देना हो, उनका महती योगदान रहा।

उनकी 95वीं वर्षगाठं के अवसर पर उनके सुपुत्र अरविन्द गोटेवाला अपने स्वर्गीय पिताजी की याद में विशाल रक्त दान शिविर व दन्त चिकित्सा कैम्प का आयोजन कर गरीब व मध्यम श्रेणी के लोगों की सेवा कर गोटेवाला की पावन पुण्य स्मृति को स्थायी रूप से कायम रख रहे हैं।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles