June 23, 2024, 11:35 am
spot_imgspot_img

भारत में स्वस्थ आहार के रूप में बादाम को शीर्ष स्नैकिंग विकल्प के रूप में चुना गया

हाल ही में 24 जनवरी से 6 फरवरी 2023 के बीच कैलिफोर्निया के बादाम बोर्ड द्वारा किए गए यूगॉव सर्वेक्षण में पाया गया कि भारत के अधिकांश शहरी क्षेत्रों में जीवनशैली से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं जैसे मोटापा, मधुमेह, हृदय रोग में वृद्धि दर्ज हुई है। सर्वेक्षण ने जहां भारत में बढ़ती स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं पर प्रकाश डाला, वहीं इन स्वास्थ्य समस्याओं से लड़ने के लिए अपनाई जाने वाली कुछ प्रमुख रणनीतियों का भी खुलासा किया, जैसे संतुलित आहार का सेवन, व्यायाम और हैल्दी नाश्ता।

स्वस्थ स्नैकिंग श्रेणी में एक उल्लेखनीय जिक्र बादाम का था। सर्वेक्षण में, बादाम को अपने मजबूत पोषण प्रोफ़ाइल, विशेष रूप से प्रोटीन और फाइबर की अधिकता और इसके विभिन्न स्वास्थ्य लाभों के कारण सबसे पसंदीदा स्वस्थ स्नैकिंग विकल्प पाया गया। उत्तरदाताओं का एक बड़ा वर्ग बादाम को हृदय स्वास्थ्य, टाइप 2 मधुमेह, पीसीओएस और अन्य स्वास्थ्य स्थितियों के लिए अच्छा मानता है।

  • सर्वेक्षण की मुख्य बातें
  • पीसीओएस, मधुमेह और उच्च रक्तचाप से पीड़ित 85% लोगों ने बेहतर स्वास्थ्य के लिए नियमित रूप से बादाम का सेवन करना शुरू कर दिया है।
  • विभिन्न नट्स व ड्राई फ्रूट्स में से लगभग 70% लोग बादाम को पोषण के अच्छे स्रोत, प्राकृतिक पूरक और प्रोटीन और ऊर्जा के अच्छे स्रोत के रूप में देखते हैं।
  • 78% उत्तरदाताओं का कहना था कि बादाम उन्हें स्वस्थ महसूस कराते हैं और उनकी ऊर्जा को बढ़ाते हैं।
  • 50% से अधिक लोग वजन, रक्त शर्करा के स्तर और हृदय स्वास्थ्य का प्रबंधन करने वाले लोगों के लिए नाश्ते के रूप में बादाम पसंद करते हैं।
  • 3 में से 1 शहरी भारतीय स्वस्थ आहार के हिस्से के रूप में बादाम जैसे नट्स वाले आहार की पहचान करता है, यहां तक कि उन लोगों में भी जो वर्तमान में स्वयं या परिवार के लिए जीवनशैली से जुड़ी बीमारी का प्रबंधन नहीं करते हैं

दक्षिण (36%) की तुलना में उत्तर (41%), पश्चिम (42%) और पूर्व (42%) में स्नैक्स का सेवन अधिक किया जाता है। जब स्वस्थ नाश्ते की बात आती है, तो 25% शहरी भारतीयों को अनायास ही मेवे या ड्राई फ्रूट्स याद आ जाते हैं। यह जागरूकता दिल्ली एनसीआर, लखनऊ, लुधियाना (21%), पश्चिम (18%) और पूर्व (20%) जैसे शहरों की तुलना में दक्षिण (32%) में काफी अधिक थी। पश्चिम और दक्षिण में ऐसे नाश्ते की मांग अधिक होने की संभावना है जिसमें कोई कृत्रिम प्रिजर्वेटिव न हो।

खाने के पैटर्न पर ध्यान केंद्रित करते समय, यह देखा गया कि आधे से अधिक उत्तरदाता हर दिन बादाम का सेवन करते हैं; यह उत्तर और पश्चिम के लोगों में अधिक देखा गया। इसके अतिरिक्त, दिल्ली एनसीआर, लखनऊ, लुधियाना (76%) और पूर्व (74%) जैसे शहरों की तुलना में पश्चिम के अधिक उत्तरदाता (82%) नियमित रूप से बादाम का सेवन करते हैं।

मात्रात्मक सर्वेक्षण दिल्ली, लखनऊ, लुधियाना, जयपुर, इंदौर, कोलकाता, भुवनेश्वर, मुंबई, अहमदाबाद, पुणे, बैंगलोर, कोयंबटूर, हैदराबाद, कोच्चि और चेन्नई सहित 4000 से अधिक शहरी उत्तरदाताओं के सैम्पल साइज के बीच किया गया था।

सर्वेक्षण के परिणामों पर टिप्पणी करते हुए, रितिका समद्दर, क्षेत्रीय प्रमुख-आहार विज्ञान, मैक्स हेल्थकेयर – दिल्ली ने कहा, “स्वस्थ आहार बनाए रखना समग्र स्वास्थ्य और कल्याण के लिए महत्वपूर्ण है और यह सर्वेक्षण उस तथ्य का एक प्रमाण है। संतुलित आहार आवश्यक पोषक तत्व और ऊर्जा प्रदान करता है जिनकी हमारे शरीर को ठीक से काम करने के लिए आवश्यकता होती है, जिसमें कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, स्वस्थ वसा, विटामिन और खनिज शामिल हैं। एक भोजन जिसने अपने स्वास्थ्य लाभों के लिए ध्यान आकर्षित किया है वह है बादाम।

बादाम पोषक तत्वों से भरपूर एक भोजन है जो विटामिन ई, मैग्नीशियम और पोटेशियम सहित आवश्यक विटामिन और खनिजों की प्रचुर मात्रा प्रदान करता है। वे स्वस्थ वसा, फाइबर और प्रोटीन का भी एक स्वस्थ स्रोत हैं। बादाम का नियमित सेवन विभिन्न स्वास्थ्य लाभों से जुड़ा हुआ है, जैसे हृदय रोग के जोखिम को कम करना, रक्त शर्करा नियंत्रण में सुधार और वजन प्रबंधन को बढ़ावा देना।”

सर्वेक्षण के परिणामों पर टिप्पणी करते हुए, पोषण और वैलनेस सलाहकार, शीला कृष्णास्वामी ने कहा, “सर्वेक्षण व्यावहारिक है और बादाम को टॉप पसंदीदा नट के रूप में सही पाया गया है। बादाम के पोषक तत्वों को देखते हुए, यह आश्चर्य की बात नहीं है कि इन मेवों को भारतीयों के सबसे पसंदीदा स्वस्थ स्नैक्स में से एक माना गया है। बादाम पोषक तत्वों का एक प्राकृतिक स्रोत हैं और प्रोटीन, विटामिन ई, कैल्शियम, फॉस्फोरस और मैग्नीशियम से भरपूर होते हैं। इनमें आवश्यक वसा भी होती है जो हृदय के लिए अच्छी साबित होती है।

वास्तव में, शोध से पता चलता है कि संतुलित आहार योजना के एक हिस्से के रूप में दैनिक बादाम का सेवन, स्वस्थ रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने में मदद कर सकता है। साथ ही वजन को नियंत्रित करने में भी मदद कर सकता है। अपने स्वास्थ्य लाभों के अलावा, बादाम सदाबहार हैं और इनका विभिन्न तरीकों से आनंद लिया जा सकता है, एक फटाफट और आसान नाश्ते से लेकर सलाद या दही के लिए कुरकुरे टॉपिंग तक।

बादाम को स्वस्थ आहार में शामिल करना समग्र स्वास्थ्य और वैलनेस का समर्थन करने का एक सरल लेकिन प्रभावी तरीका है।” एमबीबीएस और पोषण विशेषज्ञ, डॉ. रोहिणी पाटिल ने कहा, “हाल के दिनों में, पीसीओएस, टाइप-2 मधुमेह और उच्च रक्तचाप के बारे में जागरूकता बढ़ी है, क्योंकि लोग ऐसी स्वास्थ्य समस्याओं की शुरुआत को रोकने के लिए एहतियाती कदम उठा रहे हैं।

यह देखना अच्छा है कि सर्वेक्षण के अनुसार बादाम भारतीय आहार में शीर्ष नट के रूप में उभरा है। बादाम बेहद पौष्टिक होते हैं और प्रोटीन और कैल्शियम का पौधा-आधारित स्रोत हैं। वे शाकाहारी लोगों और लैक्टोज असहिष्णुता वाले लोगों के लिए एक आदर्श आहार विकल्प बनाते हैं।

प्रोटीन और कैल्शियम से भरपूर होने के अलावा, बादाम आहार फाइबर का एक अच्छा स्रोत है जो रक्त शर्करा नियंत्रण और वजन प्रबंधन में मदद करता है। उनमें विटामिन ई भी उच्च मात्रा में होता है जो फेफड़ों के प्रतिरक्षा कार्यों का समर्थन करने के लिए एंटीऑक्सीडेंट के रूप में प्रयुक्त होता है। समग्र स्वास्थ्य और वैलबीइंग को बढ़ावा देने के लिए बादाम को पौष्टिक आहार में शामिल करना एक सुविधाजनक और प्रभावी रणनीति है।”

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles