एक लाख सत्तर हजार से अधिक सुरक्षाकर्मियों ने करवाया शांतिपूर्ण मतदान

जयपुर। राजस्थान की 199 विधानसभा सीटों पर मतदान सम्पन्न हो गए। राजस्थान शांतिपूर्ण मतदान के लिए पुलिस ने विशेष व्यवस्था की थी। प्रदेश में 199 विधानसभा सीटों पर मतदान सम्पन्न कराने की सुरक्षा व्यवस्था में पुलिसकर्मी, होमगार्ड्स तथा अर्धसैनिक बलों की सात सौ कंपनियां डिप्लॉय की गई थी। 1 लाख 70 हजार से अधिक सुरक्षाकर्मी पूरे प्रदेश में मतदान केन्द्रों पर लगाए गए थे।

जिसमें 70 हजार से अधिक राजस्थान पुलिस के पुलिसकर्मी, 18 हजार राजस्थान होमगार्ड, 2 हजार राजस्थान बॉर्डर होमगार्ड, 15 हजार अन्य राज्यों के होमगार्ड ( उत्तर प्रदेश, गुजरात, हरियाणा, मध्य प्रदेश), आरएसी की 120 कंपनियां शामिल थीं। साथ ही केंद्रीय अर्ध-सैनिक बल (सीआरपीएफ, बीएसएफ, आईटीबीपी, सीआईएसएफ, एसएसबी, आरपीएफ आदि) की कंपनियां एवं 18 अन्य राज्यों के सशस्त्र बल सहित कुल 1,70,000 से अधिक सुरक्षाकर्मी फील्ड में तैनात किए गए थे।

पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था राजीव शर्मा ने बताया कि संदिग्धों की पहचान कर उन्हें डिटेन कर पाबंद किया गया। यह वो लोग हैं, जो प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से चुनाव को प्रभावित कर सकते थे, इसलिए जिला प्रशासन और पुलिस ने मिलकर 11 हजार 655 संदिग्ध लोगों को पाबंद किया।

2.51 लाख को कराया कोर्ट से पाबंद

क्षेत्र में कानून-व्यवस्था को बिगाड़ सकने वाले आपराधिक व असामाजिक तत्वों को सूचीबद्ध कर उनके खिलाफ उचित कार्रवाई की गई। विधानसभा चुनाव की औपचारिक घोषणा के बाद आदर्श आचार संहिता अवधि के दौरान अब तक ऐसे 2.51 लाख व्यक्तियों को कोर्ट द्वारा पाबंद करवाया जा चुका है।

क्रिटिकल पोलिंग बूथ पर लाइव-वेब कास्टिंग

पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था ने बताया कि राज्य में 52 हजार 139 पोलिंग बूथ पर मतदान हुआ। सभी पोलिंग बूथ पर पुलिसकर्मियों एवं होमगार्ड्स तैनात किए गए, जो पोलिंग बूथ पर व्यवस्था बनाने, फर्जी वोटरों को पहचानने से लेकर रोकने तथा मतदान दल की सुरक्षा के लिए काम कर रहे थे। कानून व्यवस्था की दृष्टि से संवेदनशील पोलिंग बूथ पर केन्द्रीय अर्ध-सैनिक बलों की एक हथियारबंद टुकड़ी भी उपलब्ध करवाई गई। इसके अतिरिक्त जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा क्रिटिकल पोलिंग बूथ पर लाइव-वेब कास्टिंग एवं उचित स्थानों पर माइक्रोऑब्जर्वर भी रखे गए थे।

तेरह सौ से अधिक क्विक रेस्पॉन्स टीम

विधानसभा चुनावों के लिए राज्य सरकार की ओर से राजस्थान पुलिस नोडल अधिकारी एवं आईजी कानून व्यवस्था गौरव श्रीवास्तव ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग एवं गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा राज्य में चुनाव प्रक्रिया हेतु अर्ध-सैनिक बलों की कंपनियां उपलब्ध करवाई गई थी। संवेदनशील पोलिंग बूथ पर तैनाती के अतिरिक्त इनकी तेरह सौ से अधिक क्विक रेस्पॉन्स टीम (क्यूआरटी) मतदान दिवस पर गश्त कर रही थी और सभी विधानसभा क्षेत्रों में सुरक्षा एवं व्यवस्था सुनिश्चित की।

कुछ अति संवेदनशील क्षेत्रों में अर्ध-सैनिक बलों की बड़ी टुकड़ी भी अतिरिक्त स्ट्राइक फोर्स के रूप में तैनात की गई। अवैध एवं प्रलोभन सामग्री के वितरण, भंडारण एवं परिवहन के विरुद्ध कार्रवाई करने के लिए अर्ध-सैनिक बलों की फ्लाइंग स्क्वॉड पूरे राज्य में काम कर रही थी। सभी व्यय संवेदनशील क्षेत्रों में अतिरिक्त फ्लाइंग स्क्वाडस एवं स्टेटिक सर्विलांस टीम तैनात की गई, इनमें भी अर्ध-सैनिक बलों के जवान शामिल थे।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles