कड़ी सुरक्षा के बीच राजस्थान कॉलेज एवं कॉमर्स कॉलेज के स्ट्रॉन्ग रूम में रखी गई ईवीएम, तीन दिसंबर को होगी मतगणना

जयपुर। प्रदेश में विधानसभा चुनाव मतदान के बाद जयपुर के उन्नीस विधानसभा क्षेत्रों की सभी ईवीएम और वीवीपैट मशीनों को कड़ी सुरक्षा के बीच कॉमर्स कॉलेज तथा राजस्थान कॉलेज के संग्रहण कक्ष में बने स्ट्रांग रूम में कड़ी सुरक्षा के बीच ईवीएम मशीनों को रखा गया है। स्ट्रांग रूम के बाहर त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरा बनाया गया है।

कॉलेज के बाहर आरएसी और स्थानीय पुलिस ने घेराबंदी कर रखी है तो वहीं कॉलेज के अंदर का हिस्सा रैपिड एक्शन फोर्स के हवाले है। रैपिड एक्शन फोर्स के जवान हथियारों के साथ सुरक्षा कर रहे हैं। इसके साथ ही स्ट्रांग रूम की सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा सीपीएमएफ के जवानों के हवाले है। कॉमर्स कॉलेज में दस विधानसभा क्षेत्रों की ईवीएम मशीने जमा की गई है वहीं राजस्थान कॉलेज में नौ विधानसभा क्षेत्रों की ईवीएम मशीनों को सुरक्षा के बीच रखा गया है।

जिला निर्वाचन अधिकारी प्रकाश राजपुरोहित ने बताया कि 25 नवंबर को हुए मतदान के पश्चात जेएलएन मार्ग स्थित राजस्थान कॉलेज एवं कॉमर्स कॉलेज में ईवीएम एवं वीवीपैट का संग्रहण किया गया। कॉमर्स कॉलेज में चौमूं, फुलेरा, चाकसू, किशनपोल, विद्याधर नगर, आमेर, विराटनगर, जमवारागढ़, बस्सी एवं शाहपुरा सहित कुल दस विधानसभा क्षेत्र की ईवीएम सामग्री का संग्रहण किया गया।

वहीं राजस्थान कॉलेज में झोटवाड़ा, बगरू, दूदू, सांगानेर, आदर्श नगर, सिविल लाइन्स, मालवीय नगर, हवामहल एवं कोटपूतली सहित कुल नौ विधानसभा क्षेत्रों की ईवीएम का संग्रहण किया जाएगा। इस व्यवस्था के सफल संचालन के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गए हैं। इसके अलावा मतदान दलों की वापसी पर चुनाव वाहन मतदान दल को नियत प्रवेश द्वार पर ही उतारे।

उन्होंने बताया कि संबंधित रिटर्निंग अधिकारियों के लिए संग्रहण स्थल पर ईवीएम जमा करवाने के लिए टोकन व्यवस्था लागू की गई है। इस व्यवस्था के अंतर्गत पीआरओ को रिटर्निंग अधिकारी की टीम द्वारा टोकन जारी किया गया। जिसके बाद पीआरओ वेटिंग एरिया में अपनी बारी का इंतजार करने बाद ईवीएम सामग्री जमा करवाई गई।

आरएसी, पुलिस, आरएएफ और सीपीएमएफ पर है सुरक्षा का दारोमदार

स्ट्रांग रूम में रखी गई उन्नीस विधानसभा क्षेत्र की ईवीएम मशीनों की सुरक्षा का दारोमदार आरएसी, पुलिस, आरएएफ और सीपीएमएफ के जवानों पर है। ईवीएम मशीनों को त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरे के बीच में रखा गया है। त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरे में सबसे बाहर आरएसी और पुलिस के जवानों को तैनात किया गया है। वहीं सुरक्षा के दूसरे घेरे में रैपिड एक्शन फोर्स के जवानों को तैनात किया गया है। त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरे का सबसे महत्वपूर्ण घेरा सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्स के सशस्त्र जवानों के जिम्मे है। इसके साथ ही पुलिस के तमाम आला अधिकारी भी सीसीटीवी कैमरों के माध्यम से सुरक्षा व्यवस्था पर अपनी नजर बनाए हुए हैं।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles