बीजेपी से दो बार विधायक रहे प्रहलाद गुंजल ने अपने सैंकड़ों समर्थकों के साथ कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण की

जयपुर। राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी मुख्यालय जयपुर पर भारतीय जनता पार्टी से दो बार विधायक रहे एवं लम्बे समय से भारतीय जनता पार्टी के लिए संगठनात्मक कार्य करने वाले प्रहलाद गुंजल ने अपने सैंकड़ों समर्थकों के साथ राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा तथा पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समक्ष कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इस अवसर पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव धीरज गुर्जर, विधायक हरिमोहन शर्मा, अशोक चांदना, सी. एल. प्रेमी बैरवा, चेतन पटेल, विकास चौधरी, जाकिर हुसैन गैसावत, सुरेश गुर्जर, डूॅंगरराम गेदर, राजस्थान प्रदेश महिला कांग्रेस की अध्यक्ष राखी गौतम, कोटा शहर जिलाध्यक्ष रविन्द्र त्यागी, कोटा देहात जिलाध्यक्ष भानु प्रतापसिंह, कांग्रेस प्रत्याशी रहे नईमुद्दीन गुड्डू, महेन्द्र राजोरिया सहित अनेक प्रदेश पदाधिकारी उपस्थित रहे। इस अवसर पर प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष फतेह खान, राजसीको के पूर्व अध्यक्ष सुनील परिहार तथा राजस्थान विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व महासचिव नरेश मीणा की कांग्रेस पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से किये गये निलंबन को रद्द करने की घोषणा की तथा पार्टी एवं संगठन की मजबूती के लिए कार्य करने हेतु निर्देशित किया।

इस अवसर पर उपस्थित कांग्रेसजनों एवं मीडिया को सम्बोधित करते हुए राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि आज की वर्तमान परिस्थितियों में भारतीय जनता पार्टी में तानाशाही पूर्ण व्यवस्था चल रही है जिससे भारतीय जनता पार्टी के ही अधिकांश नेता व्यथित हैं, क्योंकि चंद लोगों के हाथ में भारतीय जनता पार्टी का संगठन केन्द्रित हो गया है तथा जनता, नेताओं व कार्यकर्ताओं की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि जन आधार रखने वाले व्यक्तियों को भारतीय जनता पार्टी में समाप्त करने का कार्य किया जा रहा है, ऐसी स्थिति में भारतीय जनता पार्टी के नेता श्री प्रहलाद गुंजल जो कोटा संभाग ही नहीं बल्कि राजस्थान प्रदेश में अपनी पहचान रखते हैं, ने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता छोडक़र कांग्रेस पार्टी में शामिल होने का निर्णय लिया है।

उन्होंने कहा कि राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सभी वरिष्ठजन, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, सचिन पायलट, कोटा एवं बूंदी के समस्त कांग्रेस विधायकगण, जिलाध्यक्षगण द्वारा अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के समक्ष प्रहलाद गुंजल को पार्टी में शामिल करने के लिए प्रस्ताव राजस्थान प्रभारी सुखजिन्दर सिंह रंधावा के माध्यम से भेजा गया, जिसे कांग्रेस आलाकमान ने स्वीकार किया और प्रहलाद गुंजल को आज कांग्रेस पार्टी की सदस्यता प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि प्रहलाद गुंजल एवं उनके सभी समर्थकों का कांग्रेस पार्टी में स्वागत है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के तमाम नेताओं ने आम सहमति के साथ प्रहलाद गुंजल को कांग्रेस पार्टी परिवार का सदस्य बनाया है और आशा है कि प्रहलाद गुंजल के आने से पार्टी को और मजबूती प्राप्त होगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस परिवार के ही सदस्य रहे राजसीको के पूर्व अध्यक्ष सुनील परिहार, पूर्व जिलाध्यक्ष फतेह खान, राजस्थान विश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व महासचिव नरेश मीणा की प्रार्थना पर कांग्रेस अनुशासन समिति ने इनकी सदस्यता के निलंबन को रद्द करने का निर्णय लिया है जिसका सभी स्वागत करते हैं।

इस अवसर पर उपस्थितजनों को सम्बोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि आज देश में जिस तरह का माहौल है, कोई नहीं जानता कि देश किस दिशा में जा रहा है। उन्होंने कहा कि भाजपा शासन में संविधान के प्रावधानों की धज्जियां उड़ रही हैं एवं इनकम टैक्स, सीबीआई का दुरुपयोग विपक्ष की आवाज दबाने के लिए हो रहा है। उन्होंने कहा कि इलेक्टोरल बाण्ड के माध्यम से भाजपा ने जिस तरह से चंदा लिया है यह बहुत बड़ा महाघोटाला है, पहले आंकड़े आये थे कि 6000 करोड़ रुपये का चंदा आया है, किन्तु अब पता पड़ रहा है कि भाजपा के पास करीब 15000 करोड़ रुपये इस माध्यम से चंदा आया है जो कि सबसे बड़ा घोटाला है। उन्होंने कहा कि आज ही कांग्रेस नेता राहुल गांधी एवं कांग्रेस अध्यक्ष श्री मल्लिकार्जुन खडग़े ने प्रेस कॉन्फ्र्रेंस की है, क्योंकि कोई समझ नहीं पा रहा कि आने वाले समय में क्या होगा।

उन्होंने कहा कि देश में सत्ताधारी दल विपक्षी दलों को चुनाव लडऩे के लिए बराबरी के अधिकार नहीं मिलने दे रहा है, जो कि लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं पर कुठाराघात है। उन्होंने कहा कि एक तरफ तो कांग्रेस पार्टी के बैंक खाते फ्रीज कर दिये और आश्चर्य की बात है, सम्भवत: पहली बार ऐसा हुआ है कि इनकम टैक्स में बैंक खातों से 115 करोड़ रूपया निकाल भी लिये, जो दर्शाता है कि भारतीय जनता पार्टी के शासन में शासकीय व्यवस्थाओं का दुरुपयोग हो रहा है। उन्होंने कहा कि आज आवश्यकता है कि केन्द्र की तानाशाही के विरुद्ध जनता के बीच जाकर संघर्ष किया जाये।

उन्होंने कहा कि प्रहलाद गुंजल की तरह के स्वाभिमानी नेताओं को भारतीय जनता पार्टी में घुटन महसूस हो रही है तथा सभी लोग भारतीय जनता पार्टी की तानाशाही का विरोध करने के लिए तत्पर है। उन्होंने कहा कि प्रहलाद गुंजल के कांग्रेस में शामिल होने से पार्टी को मजबूती मिलेगी एवं केन्द्र की तानाशाही पूर्ण नीतियों के विरुद्ध संघर्ष को बल मिलेगा। उन्होंने राजसीको के पूर्व अध्यक्ष सुनील परिहार, पूर्व जिलाध्यक्ष फतेह खान एवं नरेश मीणा के पार्टी से निलंबन को रद्द करने पर इन्हें बधाई देते हुए कहा कि समय है पार्टी की मजबूती के लिये कार्य करें। उन्होंने सभी कांग्रेसजनों से एकजुट होकर चुनाव में कांग्रेस पार्टी को विजयी बनाने हेतु संकल्प लेने का आह्वान किया।

इस अवसर पर प्रहलाद गुंजल ने कहा कि आज उन्होंने कांग्रेस पार्टी की रीति नीति से प्रभावित होकर कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली है तथा भारतीय जनता पार्टी से 40 वर्ष पुराना संबंध समाप्त कर लिया है। उन्होंने कहा कि वह 1984 से छात्र जीवन के समय से भारतीय जनता पार्टी से जुड़े हुये थे तथा लम्बे समय तक आमजन की सेवा पार्टी में रहकर करते रहे, किन्तु अब यह महसूस होने लगा है कि जिस प्रकार की परिस्थितियों के बाद एक बात सामने आ रही है कि सत्ता की ताकत के दम पर आम आदमी एवं भाजपा में आम कार्यकर्ता की आवाज को दबाया जा रहा है और यह प्रवृत्ति लोकतंत्र के लिए चुनौती बन गई है।

उन्होंने कहा कि हम सबको अपने अंदर हौसला रखना चाहिए क्योंकि सरकार सुरक्षा के लिए होती है, भय का कारण बनने के लिए नहीं और जब-जब सरकारें भय का कारण बनेगी, नौजवान नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को उस भय के विरुद्ध हौसले के साथ मुकाबला करना चाहिए। उन्होंने कहा कि राम मनोहर लोहिया ने कहा था कि जब-जब सडक़ सुनी हो जाएगी तो संसद आवारा हो जाएगी। उन्होंने कहा कि मेरा तो नारा है जोर-जुल्म की टक्कर में संघर्ष करना हमारा नारा है। उन्होंने कहा कि खरीदारी की राजनीति के इस दौर में खुद्दारी की राजनीति पर प्रहार हो रहा है, किंतु यदि खुद्दार लोग एक होकर संघर्ष नहीं करेंगे तो लोकतंत्र पर संकट गहरा जाएगा।

उन्होंने कहा कि आज जिस प्रकार का माहौल भारतीय जनता पार्टी में है, लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं की धज्जियां उड़ रही हैं, चंद लोग एवं परिवार राजनीति पर कब्जा कर रहे हैं, कोई भी स्वाभिमानी व्यक्ति ऐसे तानाशाही पूर्ण माहौल में रह नहीं सकता, इसलिए उन्होंने भारतीय जनता पार्टी छोडक़र कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण की है। उन्होंने सभी उपस्थित कांग्रेसजनों को विश्वास दिलाते हुए कहा कि वह हाड़ौती के सभी कांग्रेस नेताओं एवं संगठन के साथ मिलकर कार्य करेंगे एवं कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी मुख्यालय, जयपुर पर प्रहलाद गुंजल के साथ कोटा से आये सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles