यलो.एआई ने एडब्लूएस पर पूरे विश्व में जनरेटिव एआई-पॉवर्ड चैटबॉट और वॉयसबॉट सॉल्यूशंस का विस्तार किया

नई दिल्ली। अमेज़न.कॉम कंपनी अमेज़न वेब सर्विसेज़ (एडब्लूएस) ने घोषणा की कि कन्वर्सेशनल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) में ग्लोबल लीडर, यलो.एआई ने अपने जनरेटिव एआई-पॉवर्ड वॉयसबॉट और चैटबॉट सॉल्यूशंस के लिए एडब्लूएस को अपना क्लाउड प्रदाता बनाया है। ये डायनामिक एआई एजेंट ग्राहकों से लक्ष्य पर केंद्रित बात करके उनका अनुभव बेहतर बनाएंगे और उनकी जरूरतों को समझकर उन्हें व्यक्तिगत समाधान प्रदान करेंगे।

कंपनी के कस्टमर सर्विस डायनामिक एआई एजेंट 135 से ज्यादा भाषाओं में 35 से अधिक टेक्स्ट एवं वॉयस-आधारित चैनलों द्वारा उच्च गुणवत्ता की 24/7 सपोर्ट सेवाएं प्रदान करने के लिए लार्ज लैंग्वेज मॉडल (एलएलएम) का उपयोग करते हैं। यलो.एआई ने पूरे विश्व में अपने व्यवसाय का विस्तार करने के लिए अपना समाधान एडब्लूएस मार्केटप्लेस में उपलब्ध कराया है, जो स्वतंत्र सॉफ्टवेयर विक्रेताओं की ओर से हजारों सॉफ्टवेयर लिस्टिंग का एक डिजिटल कैटालॉग है, जिसके द्वारा एडब्लूएस पर चलने वाले सॉफ्टवेयर ढूंढना, उनका परीक्षण करना, उन्हें खरीदना और फिर स्थापित करना आसान हो जाता है।

मई में एडब्लूएस में माइग्रेट होने के बाद यलो.एआई की ऑपरेशनल लागत में 20% की कमी आयी, परफॉर्मेंस में 15% सुधार हुआ, और बुनियादी ढांचे की लागत में 10% की कमी हुई, जिससे कंपनी इनोवेशन और एआई शोध एवं विकास में पुनः निवेश करने में समर्थ बनी। यलो.एआई ने हाल ही में यलोजी का लॉन्च किया, जो मशीन लर्निंग (एमएल) मॉडल निर्मित, प्रशिक्षित और क्रियान्वित करने के लिए पूर्णतः मैनेज्ड सेवा, अमेज़न सेजमेकर का उपयोग करके केंद्रीकृत ग्लोबल एवं प्रोपरायटरी एलएलएम द्वारा संचालित एक जनरिक एआई-पॉवर्ड प्लेटफॉर्म है।

एलएलएम की मदद से यलो.एआई वेबसाइट, दस्तावेज एवं अन्य संबंधित डेटा की रिपॉज़िटरी से जानकारी प्राप्त कर ग्राहकों के स्वालों के जवाब निर्मित होते हैं। हैलुसिनेशंस (एआई प्रतिक्रियाएं जो सटीक या वास्तविक नहीं हैं) को कम करके वास्तविक समानुभूति प्रदर्शित करते हुए इसकी हैलुसिनेशन दर लगभग शून्य के है, यलो.एआई के डायनामिक एआई एजेंट ग्राहकों के 90% तक सवालों के जवाब स्वयं दे सकते हैं। उन्होंने ईकॉमर्स ग्राहक इंटरैक्शन में भी सुधार किया है, जिससे ग्राहकों की सर्विस पूरी होने की दर में 50% बढ़ोत्तरी हुई है, और ग्राहक संतुष्टि स्कोर 40% बढ़ा है।

यलो.एआई एक पूर्णतः मैनेज्ड फाउंडेशन मॉडल (एफएम) सेवा, अमेज़न बेडरॉक का उपयोग करता है, जो व्यवसायों को उद्योग में अग्रणी एफएम उपलब्ध कराता है, जिससे यलो.एआई को जनरेटिव एआई एप्लिकेशंस को तेजी से प्रोटोटाइप, पुनरावृत्त और स्केल करने में मदद मिलती है। यलो.एआई का उद्देश्य जनरेटिव एआई की मदद से लक्ष्य पर केंद्रित बातचीत और कस्टमर सपोर्ट बढ़ाना है। डायनामिक एआई एजेंट लीड मैनेज करने, सवालों के जवाब देने, व्यक्तिगत छूट, विशेष ऑफर और अन्य लाभ प्रदान करने के लिए ग्राहकों के साथ संलग्न हो सकते हैं।

एडब्लूएस के विश्वस्तरीय इंफ़्रास्ट्रक्चर की मदद से यलो.एआई एडब्लूएस क्षेत्रों द्वारा दुनिया में 85 से अधिक देशों के यूज़र्स को अपनी सेवाओं की उच्च उपलब्धता एवं लो लेटेंसी प्रदान करेगा। यलो.एआई एशिया-पैसिफ़िक, यूरोप, मध्य पूर्व, दक्षिण अमेरिका और अमेरिका में अपने 1000 से अधिक ग्राहकों के साथ, कंपनियों को विस्तृत तौर पर तेजी से गुणवत्तापूर्ण कस्टमर सपोर्ट प्रदान करने में मदद कर रहा है। यलो.एआई अगस्त 2023 में एडब्लूएस इंडिपेंडेंट सॉफ़्टवेयर वेंडर (आईएसवी) एक्सलेरेट में शामिल हुआ, जो महत्वपूर्ण को-सैलिंग सपोर्ट और बेनेफ़िट्स प्रदान करता है, और कंपनियों को पूरे विश्व में एडब्लूएस विक्रेताओं से जुड़ने में मदद करता है, जो लाखों एक्टिव एडब्लूएस ग्राहकों को सेवाएं देते हैं। इस साल यलो.एआई ने एडब्लूएस टेक्नोलॉजी पार्टनर के रूप में एशिया-पैसिफ़िक, भारत और उत्तर अमेरिका में अपनी व्यावसायिक पहुँच और को-सैलिंग के प्रयासों में काफ़ी वृद्धि की, और रिटेल, वित्तीय सेवाओं एवं यूटिलिटीज़ जैसे मुख्य उद्योगों में नए ग्राहक प्राप्त किए।

यलो.एआई के चीफ प्रोडक्ट ऑफिसर और को-फाउंडर, राशिद खान ने कहा, “हम वैश्विक स्तर पर लगातार वृद्धि कर रहे हैं, और विश्व में हमारा वार्षिक आवर्ती राजस्व 80% बढ़ा है। विश्व में हमारे लगातार विस्तार में सहयोग देने के लिए हमें एक विश्व स्तरीय इंफ़्रास्ट्रक्चर की जरूरत थी, और एडब्लूएस ने हमें अपने ग्राहकों और उनके यूज़र्स को सर्वोत्तम सेवा देने के लिए आवश्यक स्केलेबिलिटी, उपलब्धता और व्यावसायिक सपोर्ट प्रदान की है।” उन्होंने आगे कहा, “कस्टमर सर्विस उद्योग में सफलता पाने के लिए तीव्र, दिलचस्प और व्यक्तिगत संवाद ज़रूरी है। एडब्लूएस में माइग्रेट करके हम अपने प्राइस-परफ़ॉर्मेंट जनरेटिव एआई सॉल्यूशंस की मदद से अपने डायनामिक एआई एजेंटों को ज़्यादा स्मार्ट और इंट्यूटिव बनाकर ग्राहकों को बेहतर अनुभव प्रदान कर पाएंगे।”

एडब्ल्यूएस इंडिया और दक्षिण एशिया में स्टार्टअप्स के हेड, कुमार राघवन ने कहा, “जनरेटिव एआई से कस्टमर सर्विस उद्योग में परिवर्तन आ रहा है, और संवाद ज़्यादा दिलचस्प एवं सुगम बन रहा है।” उन्होंने कहा, “यलो.एआई डायनामिक एआई एजेंटों की मदद से कस्टमर केयर के अनुभव में सुधार लाने के लिए अत्याधुनिक क्लाउड टेक्नोलॉजीज का उपयोग कर रहा है और अपने व्यवसाय में परिवर्तन ला रहा है। हम पूरे विश्व में ग्राहकों के लिए जनरेटिव एआई-संचालित कन्वर्सेशनल एप्लिकेशंस की उपलब्धता आसान बनाने के लिए यलो.एआई को एडब्लूएस पार्टनर प्रोग्राम और एडब्लूएस मार्केटप्लेस की मदद देने के लिए तत्पर हैं।”

एडब्लूएस भारत में ग्राहकों और स्थानीय समुदायों के लिए दीर्घकालिक प्रतिबद्धता रखता है। यह 2016-2022 के बीच देश में 3.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर (30,900 करोड़ रुपए) का निवेश कर चुका है। भारत में एडब्लूएस क्षेत्र, एडब्लूएस एशिया पैसिफ़िक (मुंबई) क्षेत्र का लॉन्च 2016 में किया गया, और एडब्लूएस एशिया पैसिफ़िक (हैदराबाद) क्षेत्र का लॉन्च 2022 में किया गया। एडब्लूएस भारत में 2030 तक स्थानीय क्लाउड इंफ्रास्ट्रक्चर में 12.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर का निवेश करेगा, जिससे 2030 तक भारत एडब्लूएस का कुल निवेश बढ़कर 16.4 बिलियन अमेरिकी डॉलर (1,36,500 करोड़ रुपए) हो जाएगा। इन निवेशों से इनोवेशन और उत्पादकता बढ़ाने में तेज़ी आएगी, और भारत के कुल सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 2030 तक अनुमानित 23.3 बिलियन अमेरिकी डॉलर (1,94,700 करोड़ रुपए) का योगदान मिलेगा। एडब्लूएस 2016 से लेकर अब तक भारत में 4 मिलियन से ज्यादा लोगों को क्लाउड टेक्नोलॉजी का प्रशिक्षण भी दे चुका है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles