चुनाव में धनबल के दुरुपयोग को रोकने राजस्थान पुलिस का रिकॉर्ड तोड़ प्रदर्शनः 13 दिनों में अब तक 111 करोड़ की जब्ती

जयपुर। विधानसभा चुनाव 2023 के दृष्टिगत चुनाव प्रक्रिया में धनबल के दुरूपयोग के विरूद्ध राजस्थान पुलिस का रिकॉर्ड तोड़ प्रदर्शन जारी है। राजस्थान पुलिस ने आदर्श आचार संहिता के पहले 13 दिनों में जब्ती के आंकड़े का कीर्तिमान ध्वस्त कर दिया है। इन 13 दिनों में अब तक 111 करोड़ की जब्ती की जा चुकी है। जबकि पिछले विधानसभा चुनाव में 60 दिनों के अंदर 65 करोड़ का अवैध माल जप्त किया गया था।

व्यय अनुवीक्षण प्रकोष्ठ के प्रभारी पुलिस महानिरीक्षक विकास कुमार ने बताया कि पिछले चुनावों की तुलना में इस वर्ष कई गुना अधिक जब्ती हो सकती है। अब तक करीब 15 करोड़ की अवैध शराब पकड़ी गई। जबकि 38 करोड़ के मादक पदार्थ पुलिस ने जब्त किये। साथ ही नकदी के अवैध लेनदेन पर भी प्रभावी शिकंजा कस करीब 15 करोड रुपए की राशि अब तक जब्त की जा चुकी है।

आईजी कुमार ने बताया कि हथियारों और सोना चांदी के अवैध धंधे पर भी पुलिस पैनी नजर बनाए हुए हैं। अब तक करीब 14 करोड़ रुपए कीमत का सोना चांदी जब्त किया गया है। कुमार ने बताया कि चुनाव आयोग के निर्देशों के तहत करीब 2000 उड़नदस्ते लगाये गये हैं। इन उड़नदस्तों ने अब तक करीब 8 करोड़ की धर पकड़ की गई है। कुल 650 नाके लगाये गए है इनमें राजस्थान से लगती अन्य राज्यों की सीमाओं पर 250 से ज्यादा नाके लगाकर उन्हें सीसीटीवी से लेस भी किया गया है।
   

उन्होंने बताया कि दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे तथा अमृतसर जामनगर भारतमाला सड़क के हर निकास पर पुलिस पिकेट लगाया गया है। भारत माता सड़क राजस्थान में करीब 600 किलोमीटर और एक्सप्रेस वे करीब 350 किलोमीटर में है। जिले की विशेष टीमें, थानों तथा एसओजी, स्टेट क्राइम ब्रांच द्वारा भी इसमें सहयोग दिया जा रहा है। धर पकड़ की कार्रवाई में बांसवाड़ा, बाड़मेर, जोधपुर, भीलवाड़ा और अलवर इत्यादि जिले का प्रदर्शन उच्च स्तरीय रहा है। प्रत्येक जिले के दैनिक प्रदर्शन का विश्लेषण कर उन्हें निर्देश दिए जा रहे हैं।
     

आईजी कुमार ने बताया कि उन्होंने चुनाव में धनबल के दुरुपयोग को रोकने कई सारे नवाचार किए हैं। राज्य में पहली बार समस्त नाकों की आठ अंकीय यूनिक कोडिंग की गई। जिससे निगरानी, उत्तरदायित्व निर्धारण और विश्वसनीयता कायम हुई है।  पुलिस मुख्यालय से दिन रात एक विशेष टीम मॉनिटरिंग कर रही है। तकनीकी एप के माध्यम से समस्त जब्ती की पल-पल की सूचना प्रकोष्ठ तक पहुंच रही है। सभी राज्य स्तरीय और केंद्रीय एजेंसी के साथ निकट समन्वय का भी प्रकोष्ठ कार्य देख रहा है। संयुक्त दलों के माध्यम से कार्रवाई की जा रही है।

आईजी विकास कुमार ने बताया कि चुनाव प्रक्रिया को धनबल के दुरुपयोग से प्रभावित या बाधित करने के किसी भी प्रयास को नेस्तनाबूद करने के लिए राजस्थान पुलिस कटिबंध है। चुनाव आयोग के दिशा निर्देशों के तहत ऐसी व्यवस्था की गई है कि परिंदा भी पर ना मार सके, यदि उसकी मंशा चुनाव को गलत तरीके से प्रभावित करने की हो। आसूचना संकलन और ऑपरेशन के लिए जिला पुलिस को प्रशिक्षित करने विशेष कार्यशालाओं का भी आयोजन किया जा रहा है, जिसका असर रंग ला रहा है। 

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles