July 16, 2024, 5:44 am
spot_imgspot_img

बकरा ईद सोमवार को: बकरा बाजार में दस हजार रुपये से लेकर सवा लाख रुपये तक के बकरे मिल रहे

जयपुर। बकरा ईद सोमवार को मनाई जाएगी। इस दिन दी जाने वाली कुर्बानी को बलिदान का प्रतीक माना जाता है। इसके चलते ईदगाह से लेकर ट्रांसपोर्ट नगर तक बकरों का अस्थाई बाजार लगा हुआ है। इस बाजार में जयपुर, हरियाणा, यूपी समेत आस-पास के शहरों से व्यापारी और खरीददार पहुंच रहे हैं और और कोटा करौली, सोजती, सिरोही, गुर्जरी, नागौरी, मारवाड़ी नस्ल के बकरों की बिक्री हो रही है। इस बार बाजार में दस हजार रुपये से लेकर सवा लाख रुपये तक के बकरे मिल रहे हैं।

कोटा-करौली नस्ल का बकरा बना आकर्षण का केंद्र

जानकारी के अनुसार बकरा बाजार में सवाई माधोपुर से बकरों का जोड़ा आया है जो कोटा करौली नस्ल के हैं। यह जोड़ा इस बकरा मंडी में आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। इस जोड़े की कीमत डेढ़ लाख रुपए है। यह बकरा छह-छह दांत के हैं। इनके सींग अलग तरीके से मुड़े हुए हैं। कान अन्य बकरों की तुलना में लंबे होते हैं। ये हाइट में सबसे लंबे होते हैं। यह बकरा कम से कम साढ़े तीन फुट से ऊपर के होते हैं। इन बकरों को जो चना, मक्का खिलाया जाता है। जितनी इन दोनों बकरों की कीमत है। उतने में एक बाइक आ सकती है।

कुचामन से गुर्जरी नस्ल का बकरा खाता है काजू और बादाम

जयपुर की ईदगाह मंडी में कुचामन से गुर्जरी नस्ल के बकरे आए हैं। इन बकरों को जाटी की हरी पत्ती, गेहूं, जौ, मक्का, काजू और बादाम किशमिश खिलाते हैं। इस बकरे का वजन एक क्विंटल पच्चीस किलो के आसपास है। व्यापारी को इस बार बकरा ईद पर निराशा हाथ लगी है। इस बकरे को रखने में 60 हजार से ज्यादा का खर्चा आया है। उम्मीद थी कि यह बकरा मंडी में लाख सवा लाख रुपए का बिकेगा। अब तक इसकी कीमत 25 हजार से 30 हजार से ज्यादा लोग नहीं लगा रहे हैं। इससे काफी मायूसी हाथ लगी है। बकरा मंडी का बाजार सुस्त नजर आ रहा है। बकरों की तय लागत से भी कम कीमत लोग लगा रहे हैं।

पानीपत से आई पारवी नस्ल की भेड़े

पानीपत से पारवी नस्ल की भेड़ बाजार में आई हैं। इनके कान और पूंछ लंबी होती है। इनके 4 दांत से ज्यादा होते हैं। इसका वजन 1 क्विंटल से ज्यादा होता है। विक्रेता ने इस बार इन भेड़ों की कीमत 35 हजार रुपए तय की है। हालांकि इस बार उन्हें बाजार में तय भाव नहीं मिल रहे हैं। इससे उन्हें मायूसी हाथ लगी है। पिछली बार की तुलना में यहां मंडी में खरीददार कम पहुंच रहे हैं।

व्यापारियों ने बताया कि बकरों को खिलाए जाने वाले जौ, हरा-चरा, लौंग का पत्ता और तिल्ली के तेल की कीमतें बढ़ने से भी भाव में तेजी आई है। इनकी कीमतों में भी प्रति क्विटंल 3 से 5 हजार रुपए बढ़ोतरी हुई है। इसका असर बकरों की कीमत पर भी पड़ा है।

दो से कम दांत के बकरों की नहीं होती कुर्बानी

लगी अस्थाई बकरा मंडी में कुर्बानी के लिए बकरा खरीदने पहुंचे थे। कुर्बानी के बकरों के लिए सबसे जरूरी कम से कम दो दांत होने जरूरी हैं। दो दांत से कम होने पर बकरे की कुर्बानी नहीं होती है। बकरे का कान कटा नहीं होना चाहिए। कोई सींग टूटा नहीं हो। बकरा लंगड़ा कर नहीं चल रहा हो। कुर्बानी के लिए इन सब बातों का ध्यान रखा जाता है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles