गैंगस्टर रोहित और लॉरेंस बिश्नोई के इशारे में राजस्थान में बने सलमान के घर पर फायरिंग की योजना

जयपुर। एक्टर सलमान खान के घर पर फायरिंग की सारी योजना राजस्थान में तैयार की गई। गैंगस्टर रोहित गोदारा और लारेंस बिश्नोई के इशारे पर नागौर (राजस्थान) के बदमाश ने इसका पूरा प्लान बनाया। बदमाशों की गिरफ्तारी के बाद इसका खुलासा हुआ है। सलमान खान के घर 14 अप्रैल को सुबह फायरिंग की गई थी।

मुम्बई पुलिस की पूछताछ में सामने आया कि मंगलवार को इस केस में पांचवें आरोपी के रूप में मोहम्मद रफीक चौधरी पुत्र मोहम्मद सरदार चौधरी को गिरफ्तार किया गया। यह कार्रवाई नागौर के बासनी गांव में हुई थी। रफीक मूल रूप से बासनी का रहने वाला है। मुंबई के कुर्ला इलाके में उसका चाय का होटल है। इस होटल पर शूटरों का अक्सर आना-जाना था। उसी इलाके में रफीक रहता भी है। आरोप है कि रफीक ने ही सलमान के घर का वीडियो बना लॉरेंस के भाई अनमोल बिश्नोई को दिया था।

पुलिस ने बताया कि मोहम्मद रफीक चौधरी ने सलमान खान के घर की रेकी करने में शूटरों की मदद की थी। साथ ही इनके लिए पैसा भी जुटाया था। पूछताछ में सामने आया कि शूटर्स को ठहराने और फायरिंग के दौरान काम में ली गई बाइक भी रफीक ने ही दिलाई थी। मुंबई पुलिस की अब तक की जांच में इसी का रोल इस फायरिंग केस में बतौर मास्टरमाइंड सामने आया है। सलमान खान के घर फायरिंग से पहले 8 और 11 अप्रैल को कुर्ला में दोनों शूटर से मुलाकात की थी। इसके बाद ही उसने सलमान खान के घर की रेकी कर वहां का वीडियो बनाया और अनमोल बिश्नोई को भेजा था।

नागौर सदर थानाधिकारी अजय कुमार मीणा ने बताया कि सलमान खान के घर फायरिंग के बाद रफीक को शक हो गया था कि वह मुंबई पुलिस की रडार पर आ सकता है। इसलिए वह 16 अप्रैल को मुंबई से नागौर अपने गांव बासनी आ गया था। इसी दौरान मुंबई क्राइम ब्रांच को रफीक का इनपुट मिला। 5 मई को क्राइम ब्रांच की टीम नागौर आ गई। 6 मई को ही वह नागौर से ब्रांदा के लिए रवाना होने की योजना बनाई। टीम ने उसका पीछा किया। मारवाड़ जंक्शन रेलवे स्टेशन पर उसे कस्टडी में ले लिया गया था।

8 मई को रफीक को मुंबई कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे 13 मई तक पुलिस कस्टडी में भेज दिया है। मोहम्मद रफीक चौधरी को बुधवार को मुंबई क्राइम ब्रांच ने मकोका कोर्ट में पेश किया। बताया कि रफीक चौधरी गैंगस्टर रोहित गोदारा का परिचित है। रोहित गोदारा के रेफरेंस से ही अनमोल बिश्नोई के कहने पर दोनों शूटरों से मिला था। रफीक के वकील ने आरोपों को गलत बताया। कोर्ट से कहा कि रफीक को बिना किसी सबूत के आरोपी बनाया गया है।

इससे पहले 25 अप्रैल को क्राइम ब्रांच ने पंजाब से सुभाष चंद्र और अनुज थापन को अरेस्ट किया था। आरोप है कि दोनों ने इस घटना के लिए हथियार मुहैया कराए थे। 15 अप्रैल को गुजरात से विक्की गुप्ता और सागर पाल को गिरफ्तार किया गया था। विक्की और सागर ने ही 14 अप्रैल की सुबह करीब 5 बजे सलमान के घर के बाहर 4 राउंड फायरिंग की थी। उस समय सलमान घर में ही थे।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

25,000FansLike
15,000FollowersFollow
100,000SubscribersSubscribe

Amazon shopping

- Advertisement -

Latest Articles